Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गणतंत्र दिवस: UAE के शेख होंगे मुख्य अतिथि, सेना के साथ कदमताल करेंगे अरब के जवान

सभी टीमें अपने परेड कमांडर के दिशा-निर्देंशों के हिसाब से ही राजपथ पर प्रदर्शन करती हैं।

गणतंत्र दिवस: UAE के शेख होंगे मुख्य अतिथि, सेना के साथ कदमताल करेंगे अरब के जवान
X
नई दिल्ली. इस बार 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस परेड में राजपथ पर एक अलग ही नजारा देखने को मिलेगा। इसमें भारतीय सेना के जवानों के साथ संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की सेना के जवान भी कदमताल करते हुए नजर आएंगे। परेड में हिस्सा लेनेके लिए यूएई के कुल 150 जवान भारत पहुंच चुके हैं और यहां उन्होंने रिहर्सल भी शुरू कर दी है। इस वर्ष परेड में मुख्य अतिथि के रूप में यूएई के युवराज मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान शिरकत करेंगे। इसे देखते हुए भारत ने यूएई की सेना के जवानों को भी परेड में हिस्सा लेने के लिए आमंत्रित किया है। गौरतलब है कि बीते वर्ष 2016 में फ्रांस की सेना के जवानों ने भी भारतीय सेना के साथ राजपथ पर मार्च किया था। यह दूसरा मौका है जब किसी देश की सेना के जवान गणतंत्र दिवस परेड के आयोजन में हिस्सा ले रहे हैं।
ब्रह्ममोस, टी-90 होंगे आकर्षण
परेड के अन्य आकर्षणों में ब्रह्ममोस मिसाइल, टी-90 टैंक, आकाश मिसाइल, बीएमपी मशीन और केमिकल, बाइलॉजिकल, रेडियोलॉजिकल, न्यूक्लियर रेडिएशन को पकड़ने वाली मशीन शामिल है। इसके अलावा परेड में पहली स्वदेश में तैयार की गई घनुष तोप के जरिए भी सेना देश के समक्ष अपनी ताकत का नजारा दिखाएगी। घनुष को जबलपुर स्थित आयुध फैक्ट्री बोर्ड (ओएफबी) द्वारा तैयार किया गया है। गौरतलब है कि बोफोर्स तोप घोटाले के करीब तीन दशक से अधिक बीत जाने के बाद घनुष के रूप में सेना को कोई दूसरी नई तोप मिली है।
परेड में रहेंगे सेना के ये दस्ते
गणतंत्र दिवस परेड में इस बार सेना की सिक्ख लाइट इंफेट्री के अलावा इंजीनियर्स, गोरखा और बिहार रेजीमेंट के दस्ते हिस्सा ले रहे हैं। इसके अलावा दुनिया की अकेली कैवलरी रेजीमेंट भी राजपथ पर परेड के दौरान कदमताल करती हुई नजर आएगी। कैवलरी रेजीमेंट घोड़ों की रेजीमेंट है। इसका प्रयोग सीमा पर या युद्ध के दौरान नहीं किया जाता है। बल्कि यह सेना से संबंधित तमाम परंपरागत आयोजनों का ही हिस्सा होती है। यहां बता दें कि कैवलरी का एक घोड़ा पिछले 11 साल से लगातार गणतंत्र दिवस परेड में हिस्सा ले रहा है।
अर्धसैनिक बलों की भागीदारी
परेड में सेना के अलावा अर्धसैनिकों बलों की ओर से सीआरपीएफ, सीआईएसएफ और दिल्ली पुलिस का दस्ता भी राजपथ पर मार्च करता हुआ नजर आएगा। इसके अलावा पहली बार एनएसजी के कमांड़ों अपनी मौजूदगी से देश को सुरक्षित बनाए रखने का जज्बा प्रस्तुत करते हुए नजर आएंगे।
सुबह चार बजे से करते तैयारियां
परेड में भाग लेने के आए सेना के दस्तों का कहना है कि वो सुबह चार और पांच बजे के बीच अपनी रिहर्सल की तैयारी शुरू कर देते हैं। सुबह छह बजे सारी टीमें राजपथ पर पहुंच जाती हैं। इसके बाद रिहर्सल की शुरूआत होती है। गणतंत्र दिवस परेड में भागीदारी के लिए औपचारिक तैयारियों की शुरूआत अगस्त-सितंबर महीने में ही शुरू हो जाती है। सभी टीमें अपने परेड कमांडर के दिशा-निर्देंशों के हिसाब से ही राजपथ पर प्रदर्शन करती हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story