Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

शहला मसूद हत्याकांड: चार को उम्रकैद, एक आरोपी बरी

16 अगस्त 2011 को हुई थी शहला की हत्या।

शहला मसूद हत्याकांड: चार को उम्रकैद, एक आरोपी बरी
X
इंदौर. आरटीआइ कार्यकर्ता शहला मसूद हत्याकांड में फैसला सुनाते हुए CBI की कोर्ट ने चार आरोपियों को उम्रकैद की सजा सुनाई है, जबकि एक आरोपी को बरी कर दिया है। कोर्ट ने जाहिदा परवेज, सबा फारूकी, शाकीब डेंजर और ताबिश को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है, जबकि एक अन्य आरोपी इरफान को बरी कर दिया गया।
आरटीआइ कार्यकर्ता शहला मसूद की 16 अगस्त 2011 को उनके भोपाल स्थित आवास के बाहर कथित साजिश के तहत गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। CBI कोर्ट इस मामले में पिछले 10 दिन से आरोपियों और CBI की ओर से अंतिम बहस सुन रही थी। CBI ने केस में 80 से ज्यादा गवाहों का बयान दर्ज कराया।
आपको बता दें, पिछले महीने दिसंबर 2016 में एक सुनवाई के दौरान अदालत से जाहिरा ने गुहार की थी कि वह अपने बचाव के गवाहों के रूप में ध्रुवनारायण सिंह की पत्नी वंदना सिंह और शहला की छोटी बहन आयशा मसूद सुल्तान के बयान दर्ज कराना चाहती है। अदालत ने यह गुहार मंजूर भी कर ली थी। लेकिन नाटकीय रूप से जाहिरा ने अपनी यह गुहार वापिस ले ली।
38 वर्षीय शहला मसूद की हत्या के संदेह में 35 वर्षीय जाहिदा परवेज को 2012 में गिरफ्तार कर लिया गया। जाहिदा भोपाल में आर्किटेक्चर फर्म चलाती थी। कहा यह गया कि शेहला मसूद की एक पूर्व विधायक से बढ़ती नजदीकियों से परेशान होकर इंटीरियर डिजाइनर जाहिदा ने उसे मरवा दिया। सीबीआई की जांच में इस प्रेम त्रिकोण का पता चला था। सीबीआई रिपोर्ट्स के मुताबिक, आरोपी जाहिदा भी उसी विधायक से प्रेम करती थी।
29 फरवरी 2012 को सीबीआई के ज्वाइंट डायरेक्टर केशव कुमार के हाथ जाहिदा की पर्सनल डायरी लगी जिसमें 16 अगस्त 2011 की तारीख में लिखा था कि उसे उसके घर के बाहर मार दिया गया। उसमें आगे लिखा था, ‘मारने के लिए अली नामक शख्स को भेजा था उसने फोन पर मुबारक बाद दी और कहा कि हमने उसे उसके घर के दरवाजे पर ही मार दिया।‘ जिसके बाद जाहिदा ने इस बात की पुष्टि के लिए एक और आदमी को भेजा।
इसके बाद सीबीआइ के दो घंटे लंबी जांच पड़ताल के बाद शहला की मौत के पीछे त्रिकोणीय प्यार की वजह का पर्दाफाश हुआ। सीबीआई को जाहिदा के पर्सनल डायरी से सिंह के साथ उसके शारीरिक संबंधों का पता चला साथ ही उन्हें ग्राफिक सीडी रिकॉर्डिंग व अन्य चीजें मिलीं जो इस बात के पुख्ता सबूत थे। जाहिदा परवेज की शादी भोपाल के सबसे रईस बोहरा खानदानों में से एक में हुई थी।
जाहिदा यह नहीं चाहती थी कि उसके अलावा ध्रुव के साथ किसी और महिला का संबंध हो। जाहिदा को पता चला था कि ध्रुव के शेहला से भी गहरे संबंध हैं। जाहिदा ने ध्रुव से कहा था कि वह किसी अन्य महिला से संबंध नहीं रखे, इस पर ध्रुव ने कहा था कि वह राजनीति में है और उनके संबंध सबसे हैं। सीबीआई द्वारा सरकारी गवाह बनाए गए आरोपी इरफान ने कोर्ट में बताया था जिस कट्टे से शेहला की हत्या हुई वह 10 दिन उसके पास रहा था और उसी कट्टे से ताबिश ने शेहला को गोली मारी थी।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और
पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story