Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

''कश्मीर अलगाववादियों'' को ''पाक आतंकियों'' से मिलता है फंड

कश्मीर के अलगाववादियों के तार पाक आतंकियों से जुड़े हुए बताए गए हैं।

नई दिल्ली. जम्मू कश्मीर के अलगाववादियों के तार पड़ोसी देश पाकिस्तान के आतंकियों से जुड़े हुए बताए गए हैं। पाक प्रायोजित आतंकी तत्वों और कश्मीर के अलगाववादियों के तार आपस में जुड़े हुए हैं। यह बात मंगलवार को लोकसभा में गृह राज्यमंत्री हंसराज अहीर ने कही है।
लोकसभा में गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने बताया कि, कुछ बड़े अलगाववादी नेता, सीमा पार और पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) के आतंकी लीडरों के संपर्क में हैं। उन्होंने यह भी कहा कि उनलोगों को घाटी में अशांति फैलाने के लिए पाकिस्तान की ओर से निर्देश के साथ-साथ फंड भी मिलते हैं। निचले सदन में एक सवाल के जवाब में अहीर ने बताया, 'पड़ोसी देश द्वारा प्रायोजित आतंकी तत्वों और कश्मीर के अलगाववादियों के बीच सांठगांठ के सुराग मिले हैं। इस तरह के तत्वों के खिलाफ कानून के मुताबिक आवश्यक कार्रवाई की जा रही है।
उन्होंने बताया कि कुछ बड़े अलगाववादी नेता पाकिस्तान और पीओके स्थित आतंकी नेताओं के संपर्क में पाए गए। उन्होंने सांसदों से बताया, 'ऐसा मानना है कि उनको इस तरह की गतिविधियों के लिए पाकिस्तान से निर्देश के साथ-साथ वित्तीय सहायता भी मिलती है।
क्या अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा समेत अन्य सुविधाओं का खर्च केंद्र सरकार उठाती है, इसके जवाब में अहीर ने बताया कि केंद्र सरकार इस तरह का कोई खर्च नहीं उठाती है। उन्होंने बताया कि सुरक्षा का खर्च जम्मू-कश्मीर सरकार उठाती है। एक सिक्यॉरिटी रिव्यू कोऑर्डिनेशन कमिटी के फैसले के बाद ऐसा किया जाता है। इस तरह की सुरक्षा के तहत उन नेताओं को पर्सनल गार्ड्स, स्टैटिक गार्ड्स और गाड़ियां मिलती हैं।
खुफिया सूचनाओं के मुताबिक, स्थानीय अलगाववादी नेताओं ने इस साल जुलाई में हिज्बुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी की मौत के बाद दक्षिणी कश्मीर में विरोध भड़काने में अहम भूमिका निभाई थी।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top