Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

किसानों के आए बुरे दिन, सरकारी कीटनाशक बाजार से 98 रुपए लीटर महंगा!

बीज निगम ने किसानों को 298 रुपए प्रति लीटर में जिस कीटनाशक को बेचा है, वह खुले बाजार में केवल 200 रुपए में मिल रहा है।

किसानों के आए बुरे दिन, सरकारी कीटनाशक बाजार से 98 रुपए लीटर महंगा!
रायपुर. देश में किसानों की माली हालत पहले ही बद से बतर है और ऐसे में सरकारी विभाग भी किसानों का खून चुसने में कोई कोरकसर नहीं छोड़ रही है। घटिया बीज, कीटनाशक की मात्रा में डंडी मारने के बाद अब मुनाफाखोरी का एक नया मामला सामने आया है। बीज निगम ने किसानों को 298 रुपए प्रति लीटर में जिस कीटनाशक को बेचा है, वह खुले बाजार में केवल 200 रुपए में मिल रहा है। जाहिर है, दो करोड़ की खरीदी में लाखों का घालमेल हो चुका है।
बीज निगम ने 2013-14 में साथी 80 ग्राम नामक कीटनाशक खरीदा था। बाजार में इस कीटनाशक का मूल्य 200 रुपए था, लेकिन निगम ने खरीदी 257 रुपए में की हैं , जिसमें 12.89 फीसदी वैट, 25.78 फीसदी निगम का माजिर्न और 1.29 फीसदी वैट ऑन मॉजिर्न लगाकर किसानों को 298 रुपए में बेचा गया। जाहिर है, किसानों को बाजार से 100 रुपए ज्यादा में कीटनाशक थमाया गया। कुल दो करोड़ रुपए की इस खरीदी में सप्लायर के अलावा निगम ने भी कमाई की, नुकसान केवल किसानों को उठाना पड़ा। अब फिर एक बार उसी सप्लायर से यही कीटनाशन खरीदी की जा रही है। इस बार पांच करोड़ की खरीदी होना बताया जा रहा है।
नहीं रुकी गड़बड़ी-
देश में किसानों के साथ लगातार खिलवाड़ किया जा रहा है। पहले घटिया सोयाबीन बीज की सप्लाई कर किसानों को कर्जदार बनाया गया, फिर कीटनाशक की मात्रा में डंडी मारकर लूटा गया। खाद-बीज और कीटनाशक को लेकर सरकारी एजेंसी लगातार किसानों से छल कर रही है।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, क्यों कीटनाशक बेचा जा रहा है मंहगा -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Next Story
Hari bhoomi
Share it
Top