Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कश्मीर: अब हर दिन चलेगा आतंक के खिलाफ सेना का सर्च ऑपरेशन

रक्षा मंत्रालय ने हरिभूमि को बताया कि उत्तरी कश्मीर में करीब 125 विदेशी आतंकियों की मौजूदगी का खुफिया इनपुट मौजूद है।

कश्मीर: अब हर दिन चलेगा आतंक के खिलाफ सेना का सर्च ऑपरेशन
X

बीते कुछ समय से उत्तरी-कश्मीर में आठ जगहों को अपनी सुरक्षित पनाहगाह बनाए हुए पाकिस्तान समर्थित विदेशी आतंकियों की संख्या में लगातार इजाफा देखने को मिल रहा है।

इससे वहां तैनात सशस्त्र बलों को राज्य में जल्द शांति बहाल होने के आसार कम ही नजर आ रहे हैं। उत्तरी-कश्मीर में अभी कुल करीब 125 विदेशी आतंकियों की मौजूदगी का खुफिया इनपुट मौजूद है।

ये भी पढ़े- दार्जिलिंग: गोरखालैंड के लिए जीजेएम की मांग हुई तेज, रेलवे स्टेशन फूंका

इनमें से ज्यादातर का संबंध लश्करे तैयबा आतंकी संगठन से है। ऐसे में सशस्त्र बलों ने यह निर्णय लिया है कि वो आतंकियों की कमर तोड़ने के लिए आने वाले दिनों में ‘ऑपरेशन नार्थ-कश्मीर’ की शुरूआत करेंगे।

इसमें हर दूसरे-तीसरे दिन बड़े पैमाने पर सैन्य अभियान चलाकर आतंकियों को उन्हीं के अंदाज में अब जमींदोज किया जाएगा। गौरतलब है कि आतंकियों के अमरनाथ यात्रियों पर हमला की विश्वव्यापी निंदा हुई है। इसमें सात श्रद्धालुओं की मौत हो गई थी। कई अन्य घायल हैं।

रक्षा मंत्रालय के सूत्रों ने हरिभूमि को बताया कि उनके पास उत्तरी-कश्मीर में अभी कुल करीब 125 विदेशी आतंकियों की मौजूदगी का खुफिया इनपुट मौजूद है। इनमें से ज्यादातर का संबंध लश्करे तैयबा आतंकी संगठन से है।

इस जगह पर आतंकियों की संख्या बढ़ने के पीछे इसकी भौगोलिक स्थिति एक बड़ा कारण है। उसकी आड़ में यहां आतंकी भारत-पाक नियंत्रण रेखा (एलओसी) लांघकर आसानी से राज्य में प्रवेश कर लेते हैं।

साथ ही उन्हें स्थानीय लोगों की मदद मिल जाती है और कई दिनों तक सुरक्षित ठहरने और सूबे में आतंक मचाने के अपने प्लान को अंजाम देने का सुनहरी मौका भी मिल जाता है।

ये भी पढ़े- गोरखालैंड: ममता के खिलाफ साहित्यकार और कलाकार की अवार्ड वापसी

सैन्य अभियान में तेजी का अर्थ अब इन जगहों पर सशस्त्र बलों द्वारा हर दूसरे-तीसरे दिन अभियान चलाने को लेकर है। पहले पांच, सात दिन में इस तरह के अभियान किए जाते थे।

आंकड़ों के हिसाब से इस साल अब तक 128 बार आतंकियों ने एलओसी लांघकर घुसपैठ की कोशिश की है। इसमें 32 आतंकी सफल हुए हैं। इसके अलावा इन्होंने आतंकी वारदात की 61 घटनाओं को अंजाम दिया है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story