Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सत्यम प्रकरण: सेबी ने प्राइस वाटरहाउस निकायों को दो साल के लिए ऑडिट प्रमाणपत्र देने से रोका

सत्यम घोटाले में प्राइस वाटरहाउस को दोषी ठहराते हुए सेबी ने ऑडिट प्रमाणपत्र जारी करने से रोक दिया

सत्यम प्रकरण: सेबी ने प्राइस वाटरहाउस निकायों को दो साल के लिए ऑडिट प्रमाणपत्र देने से रोका

करोड़ों रुपये के सत्यम घोटाले में प्राइस वाटरहाउस को दोषी ठहराते हुए सेबी ने आज उसके नेटवर्क के निकायों पर अगले दो साल के लिए किसी भी सूचीबद्ध कंपनी को ऑडिट प्रमाणपत्र जारी करने से रोक दिया तथा उससे एवं उसके पिछले दो साझेदारों से 13 करोड़ रुपये के अवैध लाभ को वसूल करने का आदेश दिया।

ये भी पढ़ें- हवाई अड्डे पर दो यात्रियों के जूते से 2.28 लाख यूरो जब्त

बाजार नियामक का यह आदेश सत्यम कंप्यूटर्स सर्विसेज में घोटाला सामने आने के नौ साल बाद तथा सहमति के जरिए इस मामले का निस्तारण करने के लिए बड़ी ऑडिट कंपनी प्राइस वाटरहाउस द्वारा किये गये प्रयासों के विफल होने के उपरांत आया है।

चार बड़ी ऑडिट कंपनियों के खिलाफ यह किसी भी नियामक के सबसे सख्त आदेशों में एक है। प्राइस वाटरहाउस ने एक बयान में सेबी के फैसले पर निराशा प्रकट की है।

एक सौ आठ पन्ने के अपने आदेश में सेबी ने पीडब्ल्यू ब्रांड के तहत भारत में चार्टर्ड एकाउंटेंट के तौर पर काम करने वाले निकायों एवं कंपनियों को सूचीबद्ध कंपनियों का कोई ऑडिट प्रमाणपत्र जारी करने से दो साल के लिए रोक दिया है।
इसके अलावा, प्राइस वाटरहाउस बेंगलूर और उसके दो पिछले साझेदारों एस गोपालकृष्णन और श्रीनिवास टल्लुरी को 13,09,01,664 रुपये का अवैध लाभ के साथ सात जनवरी, 2007 से भुगतान की तारीख तक 12 फीसद ब्याज चुकाने को कहा गया हैं। उन्हें 45 दिनों में इसका भुगतान करना है।
Share it
Top