Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद: सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई टली

राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले में शिया वक्फ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी देकर सारी जमीन मंदिर को देने की वकालत की है।

राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद: सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई टली

अयोध्या में राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद के विवादित ढांचा विध्वंस के 25 बरस पूरे होने से एक दिन पहले सुप्रीम कोर्ट में इस मामले में सुनवाई टल गई है। अब इस मामले की सुनवाई अगले साल 8 फरवरी को होगी।

सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की बेंच करेगी। इससे पहले इस मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट सभी पक्षकारों की दलील सुनने के बाद ऐतेहासिक फैसला सुनाया था।

इस मामले में चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की बेंच ये भी तय करेगी कि आखिर इस मुकदमे का निपटारा करने के लिए सुनवाई को कैसे पूरा किया जाए यानी हाईकोर्ट के फैसले के अलावा और कितने तकनीकी और कानूनी बिंदू हैं जिनपर कोर्ट को सुनवाई करनी है।

ये करेंगे सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की सुनवाई चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की बेंच करेगी। इसमें जस्टिस मिश्रा के अलावा जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एस.अब्दुल नजीर भी होंगे।

सभी पक्षकार पहुंचे दिल्ली

बताया जा रहा है कि इस मुकदमे की सुनवाई के लिए सभी पक्षकार पूरी तैयारी के साथ दिल्ली पहुंच गए है। सभी पक्षकार अदालत की सुनवाई का इंतजार कर रहे हैं।

अयोध्या मामले में रामलला विराजमान की ओर से पक्षकार महंत धर्मदास ने दावा किया कि सभी सबूत, रिपोर्ट और भावनाएं मंदिर के पक्ष में हैं।

ये कहा था शिया वक्फ बोर्ड ने

राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले में शिया वक्फ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में एक अर्जी दायर की थी। शिया वक्फ बोर्ड ने इस अर्जी में सारी जमीन मंदिर को देने की वकालत की है।

शिया वक्फ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में दी गई अर्जी में कहा है कि विवादों में रही पूरी जमीन हिंदुओं को सौंप दी जानी चाहिए।

Share it
Top