Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ये है नवनिर्वाचित राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की नई टीम, जानिए कौन-कौन होंगे शामिल

नवनिर्वाचित राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के नई टीमों की घोषणा कर दी गई है।

ये है नवनिर्वाचित राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की नई टीम, जानिए कौन-कौन होंगे शामिल
X

केंद्र सरकार ने नवनिर्वाचित राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के नई टीमों की घोषणा कर दी है। इस टीम में वरिष्ठ आईएएस अधिकारी और लोक उद्यम चयन बोर्ड के अध्यक्ष संजय कोठारी कोराम नाथ कोविंद का सचिव नियुक्त किया गया है।

कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) की ओर से आज जारी आदेश में कहा गया कि वरिष्ठ पत्रकार अशोक मलिक को कोविंद के प्रेस सचिव के रूप में नामित किया गया है।
इसमें कहा गया कि गुजरात कैडर के वरिष्ठ वन सेवा अधिकारी भारत लाल कोविंद के संयुक्त सचिव होंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने इन नियुक्तियों को शुरूआती दो वर्षों के लिए मंजूरी दी है।
वहीं हरियाणा कैडर में वर्ष 1978 बैच के आईएएस अधिकारी कोठारी पिछले साल जून में डीओपीटी सचिव के तौर पर सेवानिवृत्त हुए थे। उन्हें नवंबर 2016 में लोक उद्यम चयन बोर्ड का अध्यक्ष नियुक्त किया गया था।
मलिक इस समय नीति संबंधी थिंक टैंक ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन में ‘डिस्टिंगग्विश्ड फैलो' हैं। भारतीय वन सेवा के वर्ष 1988 बैच के अधिकारी लाल इस समय दिल्ली में गुजरात सरकार के रेजीडेंट कमीशनर हैं।

आपको बता दें कि एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद ने विपक्ष की प्रत्याशी मीरा कुमार को 3 लाख से ज्यादा वोटों से हराकर देश के 14वें राष्ट्रपति बनें।

इसे भी पढ़ें:- PM मोदी के डिनर में शामिल होंगे नीतीश, महागठबंधन के भविष्य पर नजर

रामनाथ कोविंद को 702044 वोट मिले, जबकि मीरा कुमार को 367314 वोट हासिल हुई।

वहीं देश के 14वें राष्ट्रपति चुने जाने के बाद रामनाथ कोविंद ने कहा, 'जिस पद का मान डॉ. राजेंद्र प्रसाद, डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन, एपीजे अब्दुल कलाम और प्रणब मुखर्जी जैसे महान विद्वानों ने बढ़ाया है, उस पद के लिए मेरा चयन मेरी लिए बहुत बड़ी जिम्मेदारी का अहसास करा रहा है'।

इसे भी पढ़ें:- देखिए भारत के नव निर्वाचित राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के परिवार की कुछ चुनिंदा तस्वीरें

दिल्ली की बारिश और अपने बचपन को याद करते हुए उन्होंने कहा, 'आज दिल्ली में सुबह से बारिश हो रही है। बारिश का यह मौसम मुझे बचपन के उन दिनों की याद दिलाता है जब मैं अपने पैतृक गांव में रहा करता था। घर कच्चा था, मिट्टी की दीवारे थीं, तेज बारिश के समय फूस की बनी छत पानी रोक नहीं पाती थी। हम सब भाई-बहन कमरे की दीवार के सहारे खड़े होकर इंतजार करते थे कि बारिश कब समाप्त हो।'

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story