Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

''गौरी लंकेश और कलबुर्गी की हत्या में एक ही देसी कट्टे का इस्तेमाल हुआ'': फॉरेंसिक रिपोर्ट

लंकेश की हत्या की जांच कर रहे विशेष जांच दल को सौंपी गई फॉरेंसिक रिपोर्ट एसआईटी द्वारा हाल में दाखिल पहले आरोप आरोप पत्र का हिस्सा है।

गौरी लंकेश और कलबुर्गी की हत्या में एक ही देसी कट्टे का इस्तेमाल हुआ: फॉरेंसिक रिपोर्ट
X

पत्रकार गौरी लंकेश और अंधविश्वास विरोधी कार्यकर्ता एम एम कलबुर्गी की हत्या में एक ही देसी कट्टे का इस्तेमाल किया गया था। विशेष जांच दल (एसआईटी) के सूत्रों ने बताया कि राज्य फॉरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला ने एक रिपोर्ट में इसकी पुष्टि की है।

लंकेश की हत्या की जांच कर रहे विशेष जांच दल को सौंपी गई फॉरेंसिक रिपोर्ट एसआईटी द्वारा हाल में दाखिल पहले आरोप आरोप पत्र का हिस्सा है। उसमें के टी नवीन कुमार को आरोपी के तौर पर नामजद किया गया था।

कुमार को हाल में गिरफ्तार किया गया था। कुमार ने एसआईटी को दिये गए बयान में बताया कि वह लंकेश की हत्या की साजिश को अंजाम देने के लिये गोलियों की व्यवस्था करने में विफल रहा। यह आरोप पत्र दोनों हत्याओं के बीच संबंधों की पहली आधिकारिक पुष्टि है।

ये दोनों हत्याएं दो वर्ष के अंतराल पर हुई थीं। कलबुर्गी (77) की 30 अगस्त 2015 को धारवाड़ में जबकि 55 वर्षीय लंकेश की पांच सितंबर 2017 को यहां हत्या कर दी गई थी।

एसआईटी सदस्यों ने इससे पहले एक ही पिस्तौल का इस्तेमाल किये जाने की थ्योरी की चर्चा की थी, लेकिन पहली बार यह सामने आया है कि कलबुर्गी की हत्या में भी उसी गिरोह का हाथ था जिसने लंकेश की हत्या की। रिपोर्ट का हवाला देते हुए एक सूत्र ने बताया कि दोनों मामलों में गोली एक ही देसी कट्टे से दागी गई।

रिपोर्ट में गोलियों पर फायरिंग पिन से बने निशान एक-दूसरे से मेल खा गए।

दर्ज कराए गए अपने बयान में नवीन कुमार ने कहा कि उसे गत वर्ष अगस्त में लंकेश की हत्या की साजिश का पता चला, जब एक अन्य संदिग्ध प्रवीण कुमार ने उसे इस बारे में बताया। कुमार के एक बयान की प्रति पीटीआई के पास उपलब्ध है।

उसने कहा कि प्रवीण कुमार ने उससे लंकेश की हत्या के लिये गोलियों की व्यवस्था करने को कहा था, लेकिन वह इस काम को नहीं कर सका। उसने एसआईटी से कहा कि टेलीविजन चैनलों से उसे लंकेश की हत्या की जानकारी मिली।

कुमार ने एसआईटी से यह भी कहा कि उसने पिछले साल नवंबर में एक अन्य संदिग्ध संजय बानसरे से मुलाकात की थी और उसने कन्नड़ लेखक और अंधविश्वास विरोधी कार्यकर्ता के एस भगवान की हत्या के लिये उससे आग्नेयास्त्रों की व्यवस्था करने को कहा था।भगवान भी हिंदुत्व के कटु आलोचक हैं।

हालांकि, कुमार के वकील वेदमूर्ति ने आरोप लगाया कि उनके मुवक्किल ने पूछताछ के दौरान अधिकारियों की तरफ से दबाव की वजह से ऐसा बयान दिया।

बयान के अनुसार कुमार ने यह भी कहा कि वह श्री राम सेना और बजरंग दल से भी जुड़ा रहा था और उसने हिंदू विचारधारा को आगे बढ़ाना शुरू कर दिया। बयान के अनुसार उसने ‘हिंदू युवा सेना' नाम का संगठन शुरू करने की बात भी कही।

लंकेश की पिछले साल पांच सितंबर को यहां उनके घर पर गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इसको लेकर देशभर में तीखी प्रतिक्रिया हुई थी।

एक अन्य अंध विश्वास विरोधी कार्यकर्ता और लेखक के एस भगवान की हत्या की कथित तौर पर साजिश रचने के लिये चार और लोगों को गिरफ्तार किया गया है। एसआईटी इस बात की भी जांच कर रही है कि क्या उनका गौरी लंकेश की हत्या से कोई संबंध है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story