Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

केरल: जानिए सबरीमाला मंदिर से जुड़ी ये 5 अहम बातें

सुप्रीम कार्ट के आदेश के बाद आज केरल के प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर के कपाट कड़ी सुरक्षा के बीच खुलेंगे।

केरल: जानिए सबरीमाला मंदिर से जुड़ी ये 5 अहम बातें
X

सुप्रीम कार्ट के आदेश के बाद आज केरल के प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर के कपाट कड़ी सुरक्षा के बीच खुलेंगे। मंदिर में प्रवेश करने के लिए हजारों की संख्या में श्रद्धालु जमा हो रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी सबरीमाला मंदिर में महिलाओं को प्रवेश नहीं देने की कोशिश की जा रही है। इसलिए तनाव की स्थिति बनी हुई है। किसी भी तरह की हिंसा को करोने के लिए मंदिर परिसर के बाहर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है। हम आपको सबरीमाला मंदिर से जुड़ी पांच अहम बाते बताने जा रहे हैं जिसे आप नहीं जानते होंगे।

सबरीमाला मंदिर से जुड़ी पांच अहम बातें..

* केरल का प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर मलयालम कैलेंडर के अनुसार हर महीने पांच दिन के लिए खुलता है। लेकिन इसके अलावा यह मंदिर वार्षिक उत्सव मंडलम और मकाराविलक्कु के दौरान 15 नवंबर से 15 जनवरी के लिए खुलता है।

मकर संक्रांति का दिन भगवान अयप्पा के भक्तों के लिए काफी खास है। इस दिन भारी संख्या में भगवान अयप्पा यहां पहुंचते हैं।

* सबरीमाला मंदिर में सिर्फ छोटी बच्चियां और बूढ़ी महिलाएं ही प्रवेश कर सकती थीं। लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद इस मंदिर में 10 से 50 उम्र तक की महिलाएं प्रवेश कर सकती है।

लेकिन सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी महिलाओं के प्रवेश को लेकर प्रदर्शन किया जा रहा है। बता दें कि इस मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर पाबंदी की यह मान्यता लगभग 1500 साल पुरानी है।

इस मंदिर की एक यह भी मान्यता है कि इसमें मासिक धर्म के आयु वर्ग में आने वाली स्त्रियों का जाना प्रतिबंधित है। क्योंकि भगवान अयप्पा ब्रह्मचारी थे।

* सबरीमाला मंदिर में भगवान अयप्पा के सिर पर नैवेद्य की पोटली रखकर मंदिर में प्रवेश करते हैं। यह भी माना जाता है कि जो भक्त रुद्राक्ष की माला पहनकर, व्रत रखकर और सिर पर नैवेद्य रखकर मंदिर में प्रवेश करता है उसकी सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

* पौराणिक कथाओं के मुताबिक अयप्पा को भगवान शिव और मोहिनी का पुत्र माना जाता है। अयप्पा को हरिहरपुत्र के नाम से भी जाना जाता है। इस नाम के अलावा भगवान अयप्पा को अयप्पन, शास्ता, मणिकांता के नाम से भी जाना जाता है। सबरीमाला मंदिर प्रसिद्ध तीर्थस्थल है।

* सबरीमाला मंदिर में प्रवेश करने के लिए भक्तों को 18 पावन सीढ़ियों को पार करना होता है। इन सीढ़ियों के अलग- अलग अर्थ बताएं गए हैं। सबरीमाला मंदिर की इन 18 पावन सीढ़ियों में से पहली 5 सीढ़ियों को इंसान की 5 इन्द्रियों से जोड़ा जाता है। पांच के बाद आठ सीढ़ियों को इंसान की भावनाओं से जोड़ा जाता है।

वाकी बची पांच सीढ़ियों में से तीन सीढ़ियों को इंसान के गुण और दो सीढ़ियों को ज्ञान और अज्ञान के प्रतीक से जोड़ा जाता है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story