logo
Breaking

सबरीमाला मंदिर विवादः एयरपोर्ट पर पहुंची तृप्ति देसाई, ऑटोचालकों ने मंदिर तक छोड़ने से किया इनकार

सुप्रीम कोर्ट द्वारा 10-50 साल की महिलाओं को सबरीमाला मंदिर में प्रवेश की अनुमति देने के बाद आज शाम को मंदिर तीसरी बार खुलेगा। अब तक कोई भी 10-50 साल की महिला मंदिर में प्रवेश नहीं कर पाई है।

सबरीमाला मंदिर विवादः एयरपोर्ट पर पहुंची तृप्ति देसाई, ऑटोचालकों ने मंदिर तक छोड़ने से किया इनकार
सुप्रीम कोर्ट द्वारा 10-50 साल की महिलाओं को सबरीमाला मंदिर में प्रवेश की अनुमति देने के बाद आज शाम को मंदिर तीसरी बार खुलेगा। अब तक कोई भी 10-50 साल की महिला मंदिर में प्रवेश नहीं कर पाई है। ऐसे में इस मामले की मुख्य याचिकाकर्ता तृप्ति देसाई ने मंदिर में प्रवेश करने की बात कही है। तृप्ति ने 17 नवंबर को मंदिर में प्रवेश की बात कही है।
तृप्ति अपनी 6 सहयोगियों के साथ कोच्चि पहुंच गई हैं। सुरक्षा के मद्देनजर उन्हें एयरपोर्ट से बाहर नहीं निकलने दिया गया है। जब तृप्ति हावाई अड्डे पर पहुंची थीं तो उनका भारी विरोध किया जा रहा था। उनके खिलाफ नारे लगाए जा रहे थे। तृप्ति ने अपनी सहयोगियों के साथ एयरपोर्ट पर ही नाश्ता किया।
तृप्ति ने इस मामले को लेकर कहा है कि वह 4:30 बजे सुबह एयरपोर्ट पर पहुंच गई थीं। उन्होंने कई बार टैक्सी बुक किया लेकिन ड्राइवरों ने मना कर दिया। उनका मानना था कि अगर वह हमें ले जाते हैं तो उनकी गाड़ी को नुकसान पहुंचाया जाएगा।
उन्होंने आगे कहा कि पुलिस उन्हें और उनके साथ अन्य महिलाओं को दूसरे गेट से निकालना चाह रही है लेकिन प्रदर्शनकारियों के कारण वह ऐसा नहीं कर रहे। हर ओर प्रदर्शन हो रहा है। ये लोग हमें डराना चाहते हैं।
उन्होंने कहा कि लगता है प्रदर्शनकारी हमारे आने से डर गए हैं। उन्हें लगता है कि हम सबरीमाला पहुंच जाएंगे। लेकिन हम बिना दर्शन किए वापस नहीं जाएंगे। वहीं कार्यकर्ता राहुल ईश्वर ने तृप्ति के मंदिर में जाने का विरोध किया है।
उन्होंने कहा है कि अगर तृप्ति मंदिर में प्रवेश करने आईं तो निलक्कल में उन्हें विरोध का सामना करना पड़ेगा। इसे देखते हुए निलक्कल और पंबा में धारा 144 लगा दी गई है। जब तृप्ति हवाई यात्रा कर रही थीं तब कई यात्रियों ने भी उन्हें प्रवेश न करने के लिए कहा। यात्रियों ने उनसे कहा कि वह मंदिर में प्रवेश करके भक्तों की भावनाओं को आहत न करें।
Loading...
Share it
Top