Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सबरीमाला विवाद: सुरक्षा के कड़े इंतजाम, कोच्चि एयरपोर्ट से बाहर नहीं निकल सकीं तृप्ति देसाई

कोच्चि के नेदुमबासरी हवाई अड्डे पर सामाजिक कार्यकर्ता तृप्ति देसाई को उनकी छह महिला साथियों के साथ बाहर नहीं निकलने नहीं दिया गया। तृप्ति ने मंदिर में प्रार्थना करने का संकल्प लिया है।

सबरीमाला विवाद: सुरक्षा के कड़े इंतजाम, कोच्चि एयरपोर्ट से बाहर नहीं निकल सकीं तृप्ति देसाई

सबरीमला मंदिर दो महीने तक चलने वाली पूजा के लिए कड़ी सुरक्षा के बीच शुक्रवार शाम को एक बार फिर खुलेगा। वहीं भगवान अयप्पा के श्रद्धालु मंदिर में माहवारी आयु वर्ग की महिलाओं के प्रवेश के खिलाफ अब भी अड़े हुए हैं।

कोच्चि के नेदुमबासरी हवाई अड्डे पर नाटकीय घटनाक्रम देखने को मिला जब सामाजिक कार्यकर्ता तृप्ति देसाई को उनकी छह महिला साथियों के साथ बाहर नहीं निकलने नहीं दिया गया। तृप्ति ने मंदिर में प्रार्थना करने का संकल्प लिया है। बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने अयप्पा के मंत्रोच्चार के साथ प्रदर्शन किया।

इसे भी पढ़ें- छत्तीसगढ़ की चुनावी रैली में योगी ने राहुल को कहा इटली का सौदागर, वीरप्पा मोइली ने दिया जवाब

देसाई और उनकी सहयोगियों को करीब सात घंटे तक हवाईअड्डे के भीतर रोक कर रखा गया। स्थिति से निपटने के लिए बड़ी तादाद में पुलिसकर्मी हवाई अड्डे के घरेलू टर्मिनल पर मौजूद थे। एक ओर श्रद्धालु इस बात पर अड़े हुए हैं कि उन्हें हवाईअड्डे से बाहर नहीं आने दिया जाएगा।

वहीं देसाई का कहना है कि मंदिर में दर्शन किए बिना लौटने का कोई सवाल ही नहीं उठता है। मंदिर में सभी आयु वर्ग की महिलाओं को प्रवेश की अनुमित देने के उच्चतम न्यायालय के 28 सितंबर के फैसले के बाद मंदिर तीसरी बार खुलेगा।

इसे भी पढ़ें- आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू का बड़ा फैसला, राज्य में नहीं घुस सकेगी सीबीआई

सबरीमला मंदिर 'मंडला मक्काराविल्लकु' के लिए आज शाम पांच बजे खुलेगा। इसे देखते हुए मंदिर के अंदर और आस-पास पुलिसकर्मियों की बड़ी तादात में तैनाती की गई है। इससे पहले दो बार मंदिर खुलने के दौरान काफी विरोध प्रदर्शन हुए थे जिसके चलते इस बार सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

पुलिस महानिरीक्षक विजय सलीम ने पुलिसकर्मियों से सबरीमला में सख्त ड्रेस कोड का पालन करने को कहा है।

हालांकि, मंदिर तक जाने वाली 18 सीढ़ियों पर मौजूद रहने वाले कर्मियों को इससे छूट दी गई है। महिला पुलिसकर्मी और 860 महिला सिविल पुलिस अधिकारियों समेत करीब 15,000 कर्मियों की इस दौरान तैनाती की जाएगी।

Loading...
Share it
Top