Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पीएम के चार साल: इस वजह से पीएम मोदी भाषण की शुरुआत ''मित्रों'' से करते हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी...एक ऐसे लीडर, जिन्होंने जब संबोधन दिया, मित्रों से शुरुआत की। विरोधियों को मित्रों शब्द इसलिए चुभता है कि उन्होंने जनता से ‘मित्रता'' का नाता ही खत्म सा कर लिया लगता है। खैर, प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने बीते चार सालों में जो उपलब्धियां हासिल की, वह अतुलनीय है।

पीएम के चार साल: इस वजह से पीएम मोदी भाषण की शुरुआत मित्रों से करते हैं
X

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी...एक ऐसे लीडर, जिन्होंने जब संबोधन दिया, मित्रों से शुरुआत की। विरोधियों को मित्रों शब्द इसलिए चुभता है कि उन्होंने जनता से ‘मित्रता' का नाता ही खत्म सा कर लिया लगता है। खैर, प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने बीते चार सालों में जो उपलब्धियां हासिल की, वह अतुलनीय है।

उनके एक कदम की चाल के लिए हमें कई कदमों की स्पीड चाहिए होती है। वे अंतरराष्ट्रीय पटल पर उभरे ऐसा अंतरराष्ट्रीय लीडर हैं, जिन्होंने भारत की साख को बहुत विश्व बिरादरी में शिखर की ओर ले जाने में अहम भूमिका निभाई।

माननीय प्रधानमंत्री ने बीते चार सालों में जनकल्याणकारी योजनाओं के जरिए सरकार का, स्वयं का देश के प्रति विज़न प्रस्तुत किया है। लेकिन सबसे बड़ी उपलब्धि की बात जब आती है तो वह यह दिखती है इस कार्यकाल में किसी मंत्रिमंडल के सदस्य पर कोई भी भ्रष्टाचार का आरोप नहीं लगा।

किसी भी बड़े देश की सरकार बिना किसी घोटाले या भ्रष्टाचार के दाग के अपना कार्यकाल पूर्ण करने की तरफ अग्रसर हो तो यह बात उस सरकार के लिए ही नहीं, बल्कि उस देश के लिए भी शुभ संकेत है।

चार सालों में क्रांतिकारी फैसले

मोदी सरकार ने चार सालों में कई क्रांतिकारी और जनहित के फैसले लिए, जो कि सीधे-सीधे आम आदमी को प्रभावित करते हैं। सबसे बड़ा फैसला 8 नवंबर 2016 को 500 और 1,000 के नोटों का विमुद्रीकरण करना रहा है।

इस फैसले से देश की आंतरिक अर्थव्यवस्था में फैले कालेधन पर मोदी सरकार ने चोट की और प्रधानमंत्री मोदी इसमें सफल भी रहे। इसके बाद बेनामी संपत्ति और बेनामी लेन-देन पर शिकंजा कसने के लिए लिए कानून में संशोधन किया।

इसे सख्त बनाया गया। संशोधित कानून में सरकार के पास बेनामी संपत्तियों को जब्त और उन्हें सील करने का अधिकार है। साथ ही, जुर्माने के साथ सजा का भी प्रावधान है। भारत में कालेधन की बढ़ती समस्या को खत्म करने की दिशा में मोदी सरकार का यह एक बड़ा कदम है।

नोटबंदी और जीएसटी

सरकार की सूझबूझ और पहल पर संसद में लंबे समय से अटके पड़े वस्तु एवं सेवाकर (जीएसटी) बिल को पारित करवाकर 1 जुलाई से लागू किया गया। इसे आर्थिक स्वतंत्रता की शुरुआत का दर्जा दिया जा रहा है।

'प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना' भी सरकार का एक सराहनीय प्रयास रहा, 'प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना' के अंतर्गत भारत सरकार एलपीजी कनेक्शन उपलब्ध करा रही है।

इस योजना के अंतर्गत भारत सरकार अगले सालों में 5 करोड़ गरीबी रेखा से नीचे जीवन-यापन करने वाले परिवारों को मुफ्त में एलपीजी कनेक्शन देगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपनी विदेश नीति को भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मजबूत किया है।

पीएम मोदी के चार साल

प्रधानमंत्री ने चार वर्षों के दौरान विश्व के कई देशों का दौरा कर भारत के मजबूत व्यापारिक और सामरिक संबंध स्थापित किए। उन्होंने इन चार वर्षों में जहां जहां भी दौरे किए, वहां अपनी एक अलग छाप छोड़ी।

एक तरफ पाकिस्तान से संबंध सुधारने के लिए प्रोटोकॉल तोड़कर वे वहां के प्रधानमंत्री से मिलने पाकिस्तान गए तो दूसरी तरफ सर्जिकल स्ट्राइक करके यह संदेश भी दिया कि विनम्रता का अर्थ कमजोरी नहीं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story