Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

प्रद्युम्न हत्याकांड: बॉम्बे हाईकोर्ट ने स्कूल के मालिकों की गिरफ्तारी पर लगाई रोक

सुप्रीम कोर्ट ने रयान स्कूल में प्रद्युम्न हत्या पर केन्द्र, हरियाणा सरकार और एचआरडी मंत्रालय को नोटिस जारी किया है।

प्रद्युम्न हत्याकांड: बॉम्बे हाईकोर्ट ने स्कूल के मालिकों की गिरफ्तारी पर लगाई रोक

रयान इंटरनेशनल स्कूल में दूसरी क्लास के सात साल के छात्र प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या के मामले में स्कूल के मालिकों की अग्रिम जमानत पर बॉम्बे हाई कोर्ट में आज सुनवाई हुई।

गिरफ्तारी से बचने के लिए रेयान इंटरनेशनल स्कूल के सीईओ रेयान पिंटो और उनके परिवार के दो सदस्यों ने बॉम्बे हाई कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी।

इस याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने अगेस्टेन पिंटो और ग्रेस पिंटो की गिरफ्तारी पर बुधवार तक रोक लगा दी है। रेयान इंटरनेशनल स्कूल के दो बड़े अधिकारियों की गिरफ्तारी के बाद पिंटो परिवार ने अग्रिम जमानत याचिकाएं दायर की गई थीं।

इससे पहले प्रद्युम्न ठाकुर के पिता की तरफ से दायर याचिका पर सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। कोर्ट ने केंद्र सरकार, हरियाणा सरकार और मानव संसाधन मंत्रालय को नोटिस भेजकर तीन हफ्ते के अंदर जवाब मांगा है। कोर्ट ने कहा कि यह एक स्कूल का मामला नहीं, बल्कि यह देश से जुड़ा मामला है।

इसे भी पढ़ें: प्रद्युम्न ने मां को लिखी थी ये आखिरी चिट्ठी, पढ़कर कलेजा हाथ में आजायेगा

गौरतलब है कि बच्चे के पिता वरुण ठाकुर ने कोर्ट में अपील कर सीबीआई जांच की मांग की थी। वरुण के वकील के मुताबिक, 'हमने कहा है कि स्कूल की कमियों पर उसकी जिम्मेदारी तय की जाए। आयोग या ट्रिब्यूनल बनाया जाए।' कोर्ट ने रेयान इंटरनेशनल स्कूल को भी नोटिस जारी किया है।

मामला क्या है?

गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 8 सितंबर को 7 साल के बच्चे की हत्या कर दी गई थी। शव शौचालय में मिला था। इस मामले में पुलिस ने स्कूल बस के कंडक्टर अशोक कुमार को गिरफ्तार किया था। आरोपी अशोक 8 महीने पहले ही स्कूल में कंडक्टर की नौकरी पर लगा था।

पिता ने सुप्रीम कोर्ट में की थी अपील

वरुण ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई थी, जिसे कोर्ट ने स्वीकार कर लिया था। वरुण ने केस की जांच सीबीआई से कराए जाने और स्कूलों में छात्रा की सुरक्षा के लिए गाइडलाइंस जारी करने की मांग की है। वरुण के वकील सुशील टेकरीवाल ने सुनवाई के बाद कहा कि सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में सीबीआई इस मामले की जांच करे, ताकि निष्पक्ष जांच हो सके।

आगे की स्लिड्स में जानिये पूरा मामला...

Next Story
Top