Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

देशभर के स्कूलों में हो रही बच्चों हत्याओं पर SC सख्त, केंद्र से तीन हफ्ते में मांगा जवाब

रायन इंटरनेशनल स्कूल हादसे के बाद दो महिला वकीलों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी।

देशभर के स्कूलों में हो रही बच्चों हत्याओं पर SC सख्त, केंद्र से तीन हफ्ते में मांगा जवाब
X

गुरुग्राम के रायन इंटरनेशनल स्कूल में 7 साल के प्रद्युम्न ठाकुर की मौत के बाद देशभर के स्कूलों में विद्यार्थियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए मौजूदा दिशा-निर्देशों को लागू करने की मांग करने वाली दो महिला वकीलों की याचिका पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई जिसके बाद कोर्ट ने केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया और तीन हफ्ते में जवाब दायर करने को कहा।

इससे पहले प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति अमिताव रॉय और न्यायमूर्ति ए.एम. खानविलकर की पीठ ने कहा था कि उसने गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में बर्बरता से मार दिये गये बच्चे के पिता की इसी प्रकार की अर्जी पर पहले ही नोटिस जारी कर दिया है।

पीठ ने कहा, 'हम इसे पुरानी (याचिका) के साथ जोड़ देंगे।' पीठ ने न्यायालय की दो वकीलों आभा शर्मा और संगीता भारती की याचिका पर सुनवाई के लिए शुक्रवार का दिन तय किया।

वकीलों ने स्कूली बच्चों की सुरक्षा को लेकर मौजूदा दिशा-निर्देशों को लागू करवाने की मांग की है। स्कूल बसों, वाहन में चढ़ने के साथ ही विद्यार्थियों की सुरक्षा की जिम्मेदारी स्कूलों की हो, यह सुनिश्चित करने के लिए दोनों वकीलों ने अतिरिक्त मानदंड भी सुझाए हैं।

इसे भी पढ़ें: बाथरूम में बस कंडक्टर नहीं आया था, किसी और ने मारा है मेरे बेटे को: ज्योति ठाकुर

गौरतलब है कि गुरुग्राम स्थित रयान इंटरनेशनल स्कूल में बर्बरता से मार दिए गए सात वर्षीय प्रद्युम्न ठाकुर के पिता वरुण ठाकुर की अर्जी पर कल न्यायालय की पीठ ने सुनवाई की थी।

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ की तीन सदस्यीय पीठ ने इस तरह की घटनाओं के मामले में स्कूल प्रबंधन की जिम्मेदारी निर्धारित करने और स्कूल में बच्चों की सुरक्षा के लिये दिशानिर्देश बनाने के अनुरोध पर केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) से भी जवाब मांगा है।

इसे भी पढ़ें: प्रद्युम्न ने मां को लिखी थी ये आखिरी चिट्ठी, पढ़कर कलेजा हाथ में आजायेगा

बोर्ड को तीन सप्ताह के भीतर जवाब देना है। पीठ ने कल इस संबंध में केन्द्र, हरियाणा पुलिस, सीबीएसई और सीबीआई को नोटिस जारी किया है। संक्षिप्त सुनवाई के दौरान पीठ ने कहा, 'यह याचिका सिर्फ संबंधित स्कूल तक सीमित नहीं है क्योंकि इसका देशव्यापी प्रभाव है।'

बच्चे के पिता वरुण ठाकुर ने वकील सुशील टेकरीवाल के माध्यम से दायर याचिका में कहा है कि इस संबंध में स्वतंत्र और निष्पक्ष जांच शीर्ष अदालत की निगरानी में सीबीआई से कराई जानी चाहिए। गुरुग्राम स्थित रयान इंटरनेशनल स्कूल के शौचालय में आठ सितंबर को बच्चे का गला रेता हुआ शव मिला था।

स्कूल के कंडक्टरों में से एक अशोक कुमार (42) को इस सिलसिले में उसी दिन गिरफ्तार किया गया था। कुमार ने कथित रूप से बच्चे का यौन उत्पीड़न करना चाहा और इसी दौरान उसकी हत्या कर दी।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top