Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सर्जिकल स्ट्राइक पर भारत को रूस का समर्थन, कहा- हम साथ हैं

रूस ने कहा कि प्रत्येक देश को अपनी हिफाजत करने का अधिकार है।

सर्जिकल स्ट्राइक पर भारत को रूस का समर्थन, कहा- हम साथ हैं
नई दिल्ली. भारत के सबसे भरोसेमंद देश रूस ने पाकिस्तान को झटका देते हुए हमेशा भारत का साथ देने की बात कही है। रूस ने नियंत्रण रेखा के पार भारत के सर्जिकल हमलों का समर्थन किया है। सर्जिकल स्ट्राइक का समर्थन करते हुए भारत में रूस के राजदूत अलेक्जेंडर एम. कदाकिन ने कहा कि रूस यह कहने वाला पहला देश था कि उरी में 19 भारतीय जवानों की हत्या करने वाले आतंकवादी पाकिस्तान से आए थे।
प्रत्येक देश को अपनी हिफाजत करने का अधिकार
रूस ने कहा कि भारत द्वारा किए गए लक्षित हमले का वह स्वागत करता है क्योंकि प्रत्येक देश को अपनी हिफाजत करने का अधिकार है। रूस ने कुछ ही दिन पहले पाकिस्तान से कहा था कि वह अपनी जमीन पर आतंकवादी समूहों की गतिविधियां रोकने के लिए प्रभावी कदम उठाए। इसके साथ ही कदाकिन ने कहा कि सीमापार आतंकवाद से मुकाबले में उनका देश हमेशा ही भारत के साथ रहा है।
दो सेनाओं के बीच एक सामान्य अभ्यास
गौरतलब है कि इससे पहले हाल ही में भारत के कहने के बावजूद रूस ने पाकिस्तान के साथ संयुक्त सैन्यअभ्यास किया था। पर अब रूस ने पाकिस्तान को झटका दिया है। रूस-पाकिस्तान के बीच हुए सैन्य अभ्यास के सवाल पर राजदूत ने कहा, 'भारत को चिंता नहीं करनी चाहिए क्योंकि यह दो देशों की दो सेनाओं के बीच एक सामान्य अभ्यास था।'
हर देश को ऐसी कार्रवाई करने का अधिकार
रूस के राजदूत ने कहा, 'हम भारत के खिलाफ होने वाली आतंकवादी घटनाओं के विरोध में हैं और हम खुले तौर पर भारत के साथ हैं। इस तरह की आतंकवादी घटनाओं को रोकने के लिए हर देश को ऐसी कार्रवाई करने का अधिकार है।
सबसे बड़ा मानवाधिकार उल्लंघन तब होता है
रूसी दूतावास के अनुसार कदाकिन ने एक समाचार चैनल से कहा कि सबसे बड़ा मानवाधिकार उल्लंघन तब होता है जब आतंकवादी भारत में सैन्य प्रतिष्ठानों पर हमले करते हैं और शांतिपूर्ण नागरिकों पर हमले करते हैं। हम लक्षित हमले का स्वागत करते हैं। प्रत्येक देश को अपनी रक्षा करने का अधिकार है।
रूस-पाकिस्तान के बीच होने वाली एंटी टेरर एक्सरसाइज
रूस के दूतावास ने इससे पहले भी बयान जारी करके कहा था, ‘रूस-पाकिस्तान के बीच होने वाली एंटी टेरर एक्सरसाइज किसी भी कीमत पर ‘आजाद कश्मीर’ (POK) या फिर गिलगिट बाल्टिस्तान जैसी जगहों पर नहीं होगी। युद्धाभ्यास चेरट में होगा।’ चेरट खेबर पुख्तनवा में है। वह पेशावर से 34 मील की दूरी पर है।
आतंकवादियों के 7 लॉन्चिंग पैड तबाह
गौरतलब है कि हाल ही में भारत में आतंकी हमला हुआ था। इस हमले में भारत के 19 जवान शहीद हो गए थे। जिसके बाद से ही हमारे देश की जनता में पाकिस्तान के खिलाफ गुस्सा है। उरी हमले का बदला लेने के लिए भारतीय सेना ने 29 सितंबर को पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक किया। भारतीय सेना ने इस कार्रवाई में आतंकवादियों के करीब सात लॉन्चिंग पैड को तबाह करते हुए 40 से ज्यादा आतंकियों को मार गिराया था।
साभार- एनबीटी
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top