Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

राज्यसभा चुनाव 2018: 23 मार्च को बदल जाएगा संसद का गणित, ऐसी होगी राज्यसभा की नई तस्वीर

उत्तर प्रदेश में राज्यसभा का एक उम्मीदवार जिताने के लिए 37 विधायकों के समर्थन की आवश्यकता होती है। इसलिए यहां बसपा के एक उम्मीदवार को जीतने में काफी मुश्किल हो सकती है।

राज्यसभा चुनाव 2018: 23 मार्च को बदल जाएगा संसद का गणित, ऐसी होगी राज्यसभा की नई तस्वीर
X

23 मार्च को राज्यसभा की 16 राज्यों में खाली हुई 58 सीटों के लिए मतदान होगा। इनमे उत्तर प्रदेश की 10 सीटों पर मुकाबला बेहद अहम होने वाला है।

यूपी में राज्यसभा 10 की सीटों के लिए भाजपा ने नौ उम्मीदवार मैदान में उतारे हैं। इसके आलावा सपा और बसपा ने भी अपना एक-एक उम्मीदवार मैदान में उतारा है।

उत्तर प्रदेश में भाजपा के पास 311 सदस्य हैं। इसलिए भाजपा यूपी में राज्यसभा की आठ सीटें आसानी से जीत जाएगी। वहीं समाजवादी पार्टी के पास 47 विधायक है, इसलिए सपा का भी उम्मीदवार आसानी से जीत सकता है।

इसे भी पढ़ें- राज्यसभा चुनाव से पहले योगी की मीटिंग में पहुंचे नितिन अग्रवाल, सपा-बसपा की बढ़ी मुश्किलें

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में राज्यसभा का एक उम्मीदवार जिताने के लिए 37 विधायकों के समर्थन की आवश्यकता होती है। इसलिए यहां बसपा के एक उम्मीदवार को जीतने में काफी मुश्किल हो सकती है।

इसी गणित को ध्यान में रखते हुए भारतीय जनता पार्टी ने अपने आठ के बजाय 9 उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है।

इनका कार्यकाल होगा खत्म

राज्यसभा में केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली, जेपी नड्डा, रविशंकर प्रसाद, प्रकाश जावडे़कर, कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी, राजीव शुक्ला, रेणुका चौधरी तथा मनोनीत सदस्य रेखा एवं सचिन तेंदुलकर का कार्यकाल 23 मार्च को खत्म हो जाएगा।

इसके आलावा सपा के नरेश अग्रवाल, जया बच्चन, किरणमय नंदा, बसपा के मुनकाद अली, कांग्रेस के शादीलाल बत्रा, सत्यव्रत चतुर्वेदी, डॉ. के. चिरंजीवी, रहमान खान, रजनी पाटिल, नरेन्द्र बुढानिया और अभिषेक मनु सिंघवी का भी कार्यकाल खत्म हो जाएगा।

इसे भी पढ़ें- फिल्में छोड़ अब राजनीति में कदम रखेंगे अक्षय कुमार, राज्यसभा के बनेंगे सदस्य

भाजपा को सबसे ज्यादा फायदा, सपा को बड़ा नुकसान

23 मार्च को राज्यसभा की 58 सीटों पर चुनाव होंगे। इसके बाद राज्यसभा की तस्वीर बदल जाएगी। चुनाव के बाद भाजपा राज्यसभा में भाजपा के करीब 15 सदस्य बढ़ जाएंगे।

इस चुनाव में भाजपा को सबसे ज्यादा फायदा उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में मिलेगा।

सपा की मीटिंग

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ द्वारा बुलाई गई मीटिंग में सपा के एक विधायक नितिन अग्रवाल भी पहुंचे थे।

नितिन अग्रवाल हाल ही में भाजपा में शामिल हुए वरिष्ठ नेता नरेश अग्रवाल के बेटे हैं। नितिन अग्रवाल हरदोई से समाजवादी पार्टी के विधायक है।

अगर नितिन अग्रवाल 23 मार्च को होने वाले राज्यसभा चुनाव की वोटिंग में सपा के लिए वोट नहीं देते हैं, तो समाजवादी पार्टी को मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story