Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

RTI में RBI ने किया पिछले वित्तीय वर्ष का खुलासा, बैंकिंग घोटाले से 21 सरकारी बैंकों को लगा 25,775 करोड़ का चूना

बैंकिंग क्षेत्र में बड़े घोटालों के कारण वित्तीय वर्ष 2017-18 में सरकारी क्षेत्र के 21 बैंकों का कार्यकाल मुश्किल भरा रहा।

RTI में RBI ने किया पिछले वित्तीय वर्ष का खुलासा, बैंकिंग घोटाले से 21 सरकारी बैंकों को लगा 25,775 करोड़ का चूना
X

बैंकिंग क्षेत्र में बड़े घोटालों के कारण वित्तीय वर्ष 2017-18 में सरकारी क्षेत्र के 21 बैंकों का कार्यकाल मुश्किल भरा रहा। बीते वित्तीय वर्ष में घोटालों के कारण 21 बैंकों को लगभग 25,775 करोड़ रुपए का नुकसान झेलना पड़ा। मध्यप्रदेश के नीमच निवासी सामाजिक कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ की आरटीआई अर्जी पर भारतीय रिजर्व बैंक यह जानकारी दी है।

आरटीआई के तहत मिली जानकारी के मुताबिक 31 मार्च 2018 को समाप्त वित्तीय वर्ष में देश के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया को धोखाधड़ी के विभिन्न मामलों के चलते 2390.75 करोड़ रुपए का चूना लगा।
आलोच्य अवधि में बैंकिग धोखाधड़ी के अलग-अलग मामलों से बैंक ऑफ इंडिया को 2224.86 करोड़ रुपए, बैंक ऑफ बड़ौदा को 1928.25 करोड़ रुपए, इलाहाबाद बैंक को 1520.37 करोड़ रुपए, आंध्रा बैंक को 1303.30 करोड़ रुपए, यूको बैंक को 1224.64 करोड़ रुपए, आईडीबीआई बैंक को 1116.53 करोड़ रुपए, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया को 1095.84 करोड़ रुपए, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया को 1084.50 करोड़ रुपए, बैंक ऑफ महाराष्ट्र को 1029.23 करोड़ रुपए और इंडियन ओवरसीज बैंक को 1015.79 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ।
आरटीआई के तहत गौड़ को 15 मई को भेजे गए जवाब से पता चलता है कि वित्तीय वर्ष 2017-18 में धोखाधड़ी के अलग-अलग मामलों से पंजाब नेशनल बैंक को सबसे ज्यादा 6461.13 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ। बहरहाल, पीएनबी सार्वजनिक क्षेत्र में देश का दूसरा सबसे बड़ा बैंक है। इन दिनों 13,000 करोड़ रुपये से ज्यादा की धोखाधड़ी के मामले से जूझ रहा है। इस बीच, अर्थशास्त्री जयंतीलाल भंडारी ने बैंकिंग धोखाधड़ी से देश के 21 सरकारी बैंकों को भारी नुकसान के आंकड़ों को बेहद चिंताजनक बताया है।
उन्होंने कहा कि ऐसे मामलों पर अंकुश के लिए सरकार और आरबीआई द्वारा संबंधित प्रावधानों को और कड़ा किया जाना चाहिए। भंडारी ने कहा, 'धोखाधड़ी के मामलों से बैंकों को न केवल बड़ा आर्थिक नुकसान हो रहा है, बल्कि उनके द्वारा भविष्य में नए कर्ज देने की संभावनाओं पर भी विपरीत असर पड़ रहा है। जाहिर है कि यह स्थिति अर्थव्यवस्था के हित में कतई नहीं है।

मामा-भांजे ने लगाया चूना

घरेलू बैंकिंग क्षेत्र के इतिहास के अब तक के सबसे बड़े घोटाले का पता इस साल की शुरुआत में चला। हीरा कारोबारी नीरव मोदी और उसके मामा व गीतांजलि जेम्स के प्रमोटर मेहुल चौकसी ने घोटाले को पीएनबी के कुछ अधिकारियों के साथ मिलकर अंजाम दिया। इसमें 13 हजार करोड़ का घोटाला हुआ।

1 लाख से ज्यादा के मामले

आरबीआई ने आरटीआई के तहत जानकारी साझा करते वक्त स्पष्ट किया है कि इसमें धोखाधड़ी के केवल वे मामले शामिल हैं, जिनमें हरेक प्रकरण में बैंकों को एक लाख रुपए से ज्यादा का चूना लगाया गया।

नहीं बताया कुल कितने मामले

आरबीआई द्वारा आरटीआई के तहत दिए गए जवाब में यह नहीं बताया गया है कि बीते वित्तीय वर्ष में संबंधित बैंकों में धोखाधड़ी के कुल कितने सामने आये और इनकी प्रकृति किस तरह की थी। जवाब में यह भी साफ नहीं है कि इन मामलों में कर्ज संबंधी फर्जीवाड़ों के प्रकरण शामिल हैं या नहीं।

इन बैंकों को भी झटका

बैंकिग धोखाधड़ी के चलते कॉर्पोरेशन बैंक को 970.89 करोड़ रुपए, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया को 880.53 करोड़ रुपए, ओरिएन्टल बैंक ऑफ कॉमर्स को 650.28 करोड़ रुपए, सिंडिकेट बैंक को 455.05 करोड़ रुपए, कैनरा बैंक को 190.77 करोड़ रुपए, पंजाब ऐंड सिंध बैंक को 90.01 करोड़ रुपए, देना बैंक को 89.25 करोड़ रुपए, विजया बैंक को 28.58 करोड़ रुपए और इंडियन बैंक को 24.23 करोड़ रुपए का नुकसान उठाना पड़ा।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story