Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

वामपंथी कार्यकर्ता गिरफ्तारी मामला: सेवानिवृत न्यायाधीशों और वकीलों ने पुलिस की आलोचना की

वामपंथी कार्यकर्ताओं के माओवादियों से कथित संबंधों की जांच के तौर पर एकत्रित किए गए सबूतों का खुलासा मीडिया के सामने करने को लेकर कुछ सेवानिवृत्त न्यायाधीशों और वरिष्ठ वकीलों ने महाराष्ट्र पुलिस की आलोचना की।

वामपंथी कार्यकर्ता गिरफ्तारी मामला: सेवानिवृत न्यायाधीशों और वकीलों ने पुलिस की आलोचना की
X

वामपंथी कार्यकर्ताओं के माओवादियों से कथित संबंधों की जांच के तौर पर एकत्रित किए गए सबूतों का खुलासा मीडिया के सामने करने को लेकर शनिवार को कुछ सेवानिवृत्त न्यायाधीशों और वरिष्ठ वकीलों ने महाराष्ट्र पुलिस की आलोचना की।

बहरहाल, कानूनी बिरादरी के कुछ अन्य लोगों ने कहा कि इस बारे में कोई नियम नहीं है कि पुलिस को किसी मामले में दस्तावेजों का खुलासा करना चाहिए या नहीं। अतिरिक्त महानिदेशक (कानून एवं व्यवस्था) परमबीर सिंह ने यहां शुक्रवार को एक संवाददाता सम्मेलन में मामले की जानकारियां देते हुए कार्यकर्ताओं के कथित पत्रों को पढ़ा।

इसे भी पढ़ें - 100 दिन रोजगार योजना के तहत देश में पहले नंबर पर पश्चिम बंगाल, ममता ने जताई खुशी

पुलिस ने यह भी दावा किया कि उनके पास जून और इस सप्ताह गिरफ्तार वामपंथी कार्यकर्ताओं के माआवोदियों से संबंधों के ‘‘ठोस सबूत' है। साथ ही पुलिस ने कहा कि इनमें से एक कार्यकर्ता ने ‘‘मोदी राज को खत्म करने के लिए राजीव गांधी जैसी घटना' को अंजाम देने की बात कही थी।

बंबई उच्च न्यायालय के सेवानिवृत न्यायाधीश पी डी कोडे ने कहा कि जांच के तौर पर एकत्रित किए गए सबूतों का खुलासा करना गलत है। उन्होंने कहा, ‘‘किसी मामले के प्राथमिक चरण में पुलिस का काम सबूत एकत्रित करना और उसे आरोपपत्र के तौर पर अदालत के समक्ष पेश करना होता है। पुलिस को ऐसे शुरुआती स्तर पर कोई राय नहीं बनानी चाहिए।'

इसे भी पढ़ें - 4 लाख का गुजारा भत्ता लेने के लिए कुटुम्ब न्यायालय पहुंची नारायण साईं की पत्नी

वरिष्ठ वकील मिहिर देसाई ने इस बात पर हैरानी जताई कि राज्य पुलिस ने किस तरीके से संवाददाता सम्मेलन बुलाया। देसाई ने कहा, ‘‘आरोपियों के खिलाफ सबूत के तौर पर दस्तावेजों को पढ़ना गलत है। पुलिस ने इन दस्तावेजों को अदालत या बचाव पक्ष के वकीलों को नहीं दिया।'

एक सरकारी अभियोजक ने गोपनीयता की शर्त पर कहा कि सबूतों का खुलासा करने का पुलिस का कदम ‘‘मूर्खतापूर्ण' है। हाल में कांग्रेस में शामिल होने वाले बंबई उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश अभय थिप्से ने कहा कि ऐसे नियम नहीं है कि पुलिस को किसी मामले में दस्तावेजों का खुलासा करना चाहिए या नहीं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story