Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गणतंत्र दिवस समारोह संपन्न, ओबामा ने देखी सैन्य ताकत और सांस्कृतिक झांकियां

इस बार परेड में पहली बार तीनों सेनाओं की महिला अधिकारियों का दस्ता दिखेगा।

गणतंत्र दिवस समारोह संपन्न, ओबामा ने देखी सैन्य ताकत और सांस्कृतिक झांकियां

नई दिल्ली.आज भारत के विभिन्न हिस्सों में आज 66वां गणतंत्र दिवस का जश्न मना रहा है। और इस बार के एतिहासिक मौके पर अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा मुख्य अतिथि हैं। खास बात यह है कि इस बार परेड में पहली बार तीनों सेनाओं की महिला अधिकारियों का दस्ता दिखेगा। ऐतिहासिक झांकी के रूप में राजपथ पर 16 राज्यों और नौ केंद्रीय मंत्रालयों और विभागों की झांकी दिखाई जाएंगी, जिससे भारत की विभिन्न संस्कृतियां भी एक साथ देखने को मिलेंगी। भारत में तैयार आधुनिक मिसाइलों के साथ यहां की सैन्य शक्ति को भी दर्शाया जाएगा।

ये भी पढ़ें:पद्म पुरस्कारों का ऐलान, आडवाणी-दिलीप कुमार सहित नौ को पद्म विभूषण

इसके अलावा समारोह में देश की सैन्य क्षमता, विभिन्न क्षेत्रों में अर्जित उपलब्धियों, आधुनिक रक्षा उपकरणों, विविध सांस्कृतिक और सामाजिक परंपराओं के अलावा सरकार की आत्मनिर्भरता तथा स्वदेशीकरण का सार्वजनिक तौर पर एक जगह दर्शन करने का मौका होगा।

वर्ष की परेड का मुख्य आकर्षण देश में विकसित सतह से हवा में मार करने वाली मध्यम दूरी की आकाश मिसाइल (सेना संस्करण) और हथियारों का पता लगाने वाले राडार दोनों का एक साथ प्रदर्शन होगा। इन्हें डीआरडीओ ने विकसित किया है। हाल ही में प्राप्त लंबी दूरी तक समुद्री निगरानी करने वाले और पनडुब्बी भेदी विमान पी-8आई और लंबी दूरी तक मार करने वाले उन्नत लड़ाकू विमान मिग-29के को पहली बार देखा जा सकेगा।

ये भी पढ़ें:गणतंत्र दिवस पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम, J&K में सीमा पर लगाए गए बहुस्‍तरीय सुरक्षा उपकरण

खास बात यह है कि इस साल राजपथ परेड में पहली बार थल सेना, नौसेना और वायुसेना तीनों सैन्य बलों की महिला दलों के मार्चिग दस्ते को शामिल किया गया है। भारतीय सेना की लेजर निर्देशित मिसाइल क्षमता टी-90 'भीष्म' टैंक, सैन्य वाहन बीएमपी द्वितीय के अलावा ट्राउल युक्त टी-72 को भी मैकेनाइज्ड कॉलम्स का भी प्रदर्शन किया जाएगा। इसे पिनाका मल्टीपल बैरल लांचर सिस्टम के बाद प्रदर्शित किया जाएगा।

जानकारी के मुताबिक, राजधानी दिल्ली में राजपथ पर मोबाइल ऑटोनॉमस लॉन्चर ब्रह्मोस मिसाइल, त्रिआयामी सामरिक नियंत्रण राडार, गतिशील संचार उपग्रह और आसानी से तैनात करने योग्य सैटेलाइट टर्मिनल प्रदर्शित किए जाएंगे। झांकी के रूप में राजपथ पर भारतीय वायुसेना की झांकी '1965 के युद्ध के 50 साल' की थीम पर आधारित है। 1965 की लड़ाई में अपने कौशल दिखाने वाले भारतीय वायुसेना के कैनबरा बमवर्षक एमआई-4 हेलीकॉप्टर और परिवहन विमान का प्रदर्शन किया जाएगा।

विकासशील राष्ट्र के समुद्रों की सुरक्षा को सुनिश्चत करने जैसे विषय को ध्यान में रखते हुए भारतीय नौसेना अपनी झांकी में समुद्री युद्ध के सभी चार आयामों में से कुछ को प्रदर्शित करेगी। स्वदेश निर्मित विध्वंसक आईएनएस कोलकाता, उन्नत हल्के हेलीकॉप्टर 'ध्रुव' के साथ ब्रह्मोस मिसाइल लांच करने के मॉडल को प्रदर्शित कर नौसेना आत्मनिर्भरता और स्वदेशीकरण की अपनी प्रतिबद्धता का भी प्रदर्शन करेगी।

गणतंत्र दिवस झांकी में 'भारतीय नौसेना और नारी शक्ति' का प्रदर्शन भी किया जाएगा। इसमें उन चार महिला अधिकारियों को भी शामिल किया जाएगा, जिन्होंने भारतीय नौसेना के पोत महादेई में गोवा से लेकर ब्राजील के रियो-डी-जनेरियो तक समुद्र की विषमताओं का बहादुरी से सामना करते हुए समुद्री यात्रा में हिस्सा लिया था। इस मौके पर संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति बराक हुसैन ओबामा मुख्य अतिथि होंगे।

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, सात घेरों में राजपथ की सुरक्षा, काला मफलर पहनकर आने पर रोक -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top