Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

ATS के हत्थे चढ़ा आतंकी, दिल्ली के अक्षरधाम मंदिर को उड़ाने की थी साजिश

गणतंत्र दिवस की वजह से दिल्ली और आसपास के इलाकों में हाई अलर्ट है। रविवार को पुलिस ने मथुरा में निजामुद्दीन भोपाल ट्रेन से एक संदिग्ध को हिरासत में लिया है

ATS के हत्थे चढ़ा आतंकी, दिल्ली के अक्षरधाम मंदिर को उड़ाने की थी साजिश

गणतंत्र दिवस की वजह से दिल्ली और आसपास के इलाकों में हाई अलर्ट है। रविवार को पुलिस ने मथुरा में निजामुद्दीन भोपाल ट्रेन से एक संदिग्ध को हिरासत में लिया है। पूछताछ में इस शख्‍स ने कबूला है कि वो और उसके दोस्त 26 जनवरी के दौरान दिल्ली के अक्षरधाम मंदिर पर आतंकी हमले को अंजाम देने वाले थे। दिल्ली पुलिस गिरफ्तार शख्स के साथियों की तलाश में कई जगह छापेमारी कर रही है।

यूपी एटीएस ने इस मामले की जानकारी दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल और आईबी को दी है और पुलिस हिरासत में आतंकी के दोनों दोस्तों को खोजने के अभियान में जुट गई है।

इसे भी पढ़ेंः जम्मू: पाकिस्तानी गोलीबारी से बचने के लिए सरकार बनाएगी 14 हजार बंकर

दिल्ली में आतंकी हमले के ख़तरे की वजह से पुलिस अलर्ट पर है। इसी संदर्भ में पुलिस ने रविवार एक शख्स को निजामुद्दीन भोपाल ट्रेन से हिरासत में ले लिया है। इस शख्स की हरकतें ट्रेन में मौजूद टीटी को संदिग्ध लगी और फिर उन्होंने जीआरपी को इसके बारे में सूचना दी। जीआरपी ने मामले की छानबीन की और उत्तर प्रदेश की आतंकवादी विरोधी सेल को इसकी जानकारी दी। पूछताछ करने पर पहले तो ये शख्स पागल जैसी हरकतें करने लगा। इसके बाद जीआरपी ने इसकी जानकारी यूपी एटीएस को दी।

इसे भी पढ़ेंःपुलिस संगठनों के 250 शीर्ष अफसरों को 'मोदी मंत्र', बीएसएफ को पांच इमारतों की सौगात

जांच में पता चला कि उस शख्स का नाम बिलाल अहमद वागय है जो कि कश्मीर के अनंतनाग का रहने वाला है। उसने बताया कि वह और उसके दो कश्मीरी साथी 26 जनवरी के कार्यक्रम और अक्षरधाम मंदिर पर हमला करने की तैयारी कर रहे थे। उसके दो साथी जामा मस्जिद के पास दो होटलों में ठहरे हुए हैं। बिलाल ने बताया कि इन होटलों में दिल्ली से निकलने के पहले वह भी ठहरा था।

जामा मस्जिद के होटलों पर छापा

यूपी एटीएस ने तुरंत इसकी जानकारी दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को दी। इसके बाद स्पेशल सेल और यूपी एटीएस ने मिलकर जामा मस्जिद इलाके के दो होटलों जमजम रेस्टोरेंट और अल राशिद होटल में छापेमारी की। जांच में पता चला कि जिन दो संदिधों के नाम बिलाल ने बताए थे वे 2-3 दिन से अल राशिद होटल में रुके थे, लेकिन वे 6 जनवरी की सुबह 8:30 बजे ही चले गए।

Share it
Top