Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Republic Day 2018: जानिए भारतीय संविधान से जुड़ी ये 10 रोचक बातें

26 जनवरी 1950 को हमारे देश भारत का संविधान लागू हुआ था। तब से लेकर अब तक हर साल 26 जनवरी को ''गणतंत्र दिवस'' के रूप में मनाया जाता है।

Republic Day 2018: जानिए भारतीय संविधान से जुड़ी ये 10 रोचक बातें

संविधान किसी भी देश की आत्मा होती है। संविधान एक ऐसा रास्ता होता है जिस पर चलकर कोई भी देश सुख, समृद्धि, विकास, सौहार्द और शांति को स्थापित करता है।

70 साल पहले हमारा देश ब्रिटिश शासन का गुलाम हुआ करता था। वो जैसा कहते थे वैसा ही भारतीय नागरिकों को करना पड़ता था। धीरे-धीरे भारतीय नागरिकों में ब्रिटिशों के प्रति रोष बढ़ता गया और एक लम्बी लड़ाई के बाद उन्होंने 15 अगस्त,1947 को ब्रिटिशों के चंगुल से हमारे देश भारत को आजाद करा दिया।

देश आजाद होने के बाद हमारे देश के स्वतंत्रता सेनानियों और राजनेताओं ने देश के उज्ज्वल भविष्य के लिए संविधान बनाने का निर्णय लिया। और अंततः 26 जनवरी 1950 को हमारे देश भारत का संविधान लागू हो गया। और तब से लेकर अब तक हर साल 26 जनवरी को 'गणतंत्र दिवस' के रूप में मनाया जाता है और दिल्ली के राजपथ पर परेड का आयोजन किया जाता है।

आइये जानते हैं भारतीय संविधान से जुड़े इन महत्वपूर्ण तथ्यों को -

1. डॉ. भीमराव अंबेडकर को भारतीय संविधान का निर्माता कहा जाता है। डॉ. अम्डेकर ने भारतीय संविधान को बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की थी।
2. संविधान बनाने वाली कमिटी का अध्यक्ष डॉ राजेंद्र प्रसाद को बनाया गया था। जोकि भारत के प्रथम राष्ट्रपति थे।
3. हमारा संविधान 26 नवंबर 1949 को बनकर पूरा तैयार हो गया था लेकिन इसे सरकार ने 26 जनवरी 1950 को लागू करवाया। जिससे प्रत्येक 26 नवंबर को भारत में विधि दिवस के रूप में मनाया जाता है।
4. भारतीय संविधान के अनुसार – हमारे देश का अपना कोई धर्म नहीं है। भारत एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र है। अर्थात भारत के नागरिकों को किसी भी धर्म को अपनाने की आजादी है।
5. संविधान के अनुसार – भारत रत्न, पद्म भूषण और कीर्ति चक्र पुरस्कार गणतंत्र दिवस के दिन ही वितरित किये जाते है।
6. भारतीय संविधान पूर्ण रूप से हस्तलिखित है इसे श्री श्याम बिहारी ने लिखा था। संविधान को बहुत ही खूबसूरती से सजाया गया था और इन पन्नों को सजाने का काम शांतिनिकेतन के कलाकारों ने किया था।
7. भारतीय संविधान को कई संविधानों का मिश्रण कहा जाता है। क्योंकि इसमें कई संविधानों के द्वारा मदद ली गयी थी। जिनमें रूस, अमेरिका, आयरलैंड जैसे देश शामिल हैं।
8. संविधान निर्माण की प्रक्रिया में 2 साल 11 महीने और 18 दिन का समय लगा था। संविधान पारित होने के बाद सभी 284 संसद सदस्यों से इस पर हस्ताक्षर लिये गये थे जिनमें 15 महिला सदस्य भी शामिल हैं।
9. भारतीय संविधान की मूल प्रति को आज भी हीलियम के अंदर डालकर भारतीय संसद के पुस्तकालय में रखा गया है।
10. संविधान के अनुसार ही स्वतंत्रता दिवस पर देश के लिए संबोधन प्रधानमंत्री द्वारा किया जाता है वही गणतंत्र दिवस पर देश के लिए सम्बोधन राष्ट्रपति करता है
Next Story
Share it
Top