Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Republic Day Parade 2019: ये ''परमवीर'' हर साल बढ़ाते हैं गणतंत्र दिवस परेड की शान, जानिए इनकी वीरगाथा

भारत में हर साल 26 जनवरी (26 January) को गणतंत्र दिवस (Republic Day 2019) मनाया जाता है। इस दिन भारत में संविधान (Constitution of India) लागू हुआ था। इस मौके पर लोग आपस में एक दूसरे को गणतंत्र दिवस पर शायरी (Republic Day Shayari), कविता (Republic Day Poems) भेजकर बधाई देते हैं। गणतंत्र दिवस के दिन का सबसे बड़ा आकर्षण होता है गणतंत्र दिवस की परेड (Republic Day Parade)। अगर आप हर साल गणतंत्र दिवस की परेड (Republic Day Parade 2019) देखते हैं तो आपने ध्यान दिया होगा कि इसमें परमवीर चक्र (Param Vir Chakra) से सम्मानित सैनिक शामिल होते हैं। भारत मां के इन सपूतों के ऊपर कई सारी फिल्में बन चुकी हैं। जिनके देश प्रेम वाले डॉयलाग (Patriotic Dialogues) हमारे अंदर जोश भर देते हैं। आज हम आपको बता रहे हैं उन परमवीर चक्र (Param Vir Chakra) विजेताओं की गाथा जो हर साल परेड की शान होते हैं।

Republic Day Parade 2019: ये परमवीर हर साल बढ़ाते हैं गणतंत्र दिवस परेड की शान, जानिए इनकी वीरगाथा
X

Republic Day Parade 2019

गणतंत्र दिवस परेड 2019

भारत में हर साल 26 जनवरी (26 January) को गणतंत्र दिवस (Republic Day 2019) मनाया जाता है। इस दिन भारत में संविधान (Constitution of India) लागू हुआ था। इस मौके पर लोग आपस में एक दूसरे को गणतंत्र दिवस पर शायरी (Republic Day Shayari), कविता (Republic Day Poems) भेजकर बधाई देते हैं। गणतंत्र दिवस के दिन का सबसे बड़ा आकर्षण होता है गणतंत्र दिवस की परेड (Republic Day Parade)। अगर आप हर साल गणतंत्र दिवस की परेड (Republic Day Parade 2019) देखते हैं तो आपने ध्यान दिया होगा कि इसमें परमवीर चक्र (Param Vir Chakra) से सम्मानित सैनिक शामिल होते हैं। भारत मां के इन सपूतों के ऊपर कई सारी फिल्में बन चुकी हैं। जिनके देश प्रेम वाले डॉयलाग (Patriotic Dialogues) हमारे अंदर जोश भर देते हैं। आज हम आपको बता रहे हैं उन परमवीर चक्र (Param Vir Chakra) विजेताओं की गाथा जो हर साल परेड की शान होते हैं।

Republic Day Parade 2019

गणतंत्र दिवस परेड 2019

ग्रेनेडियर योगेंद्र यादव (Grenadier Yogendra Singh Yadav)

ग्रेनेडियर योगेंद्र यादव को परमवीर चक्र (Param Vir Chakra) से सम्मानित किया गया था। कारगिल युद्ध में उनके पराक्रम के लिए उन्हें परमवीर चक्र (Param Vir Chakra) दिया गया था। ग्रेनेडियर योगेंद्र यादव घातक प्लाटून का हिस्सा थे जिन्हें टाइगर हिल पर फिर से कब्जे की जिम्मेदारी दी गई थी।

योगेंद्र यादव ने बिना किसी खतरे की परवाह किए बगैर खड़ी चढ़ाई पर एक रस्सी के सहारे जाने का फैसला लिया। उनके इस कदम को देख कर दुश्मनों ने ग्रेनेड, रॉकेट लांचर समेत गोला बारूद फेंके। इस हमले में उनके कमांडर और दो साथी शहीद हो गए। कारगिल के युद्ध में किसी को भी स्थिति का अंदाजा नहीं था।

26 जनवरी के लिए गणतंत्र दिवस पर देशभक्ति के डायलॉग

योगेंद्र यादव इसी लिए दुश्मनों की सूचना वापस जाकर देना चाहते थे। उनके ऊपर जो हमला हुआ इसमें उनका एक हाथ पूरी तरह खराब हो गया। योगेंद्र यादव के शब्दों में कहां तो हाथ की हड्डियां दिखने लगी थीं। उन्होंने उस हाथ को शरीर से अलग करने का फैसला किया लेकिन वह नहीं हो सका।

ग्रेनेडियार योगेंद्र रेंगते हुए वापस अपनी यूनिट पहुंचे जहां उन्होंने दुश्मनों की सूचना दी। जिस हाल में वह वापस पहुंचे थे। सभी लोग उसे देख कर हैरान थे। इसी कारण उन्हें परमवीर चक्र (Param Vir Chakra) से सम्मानित किया गया।

Republic Day Parade 2019

गणतंत्र दिवस परेड 2019

राइफलमैन संजय कुमार (Rifleman Sanjay Kumar)

राइफलमैन संजय कुमार भारतीय सेना के उन बहादुर सिपाहियों में हैं जो सैनिकों में जोश भरने के लिए जाने जाते हैं। कारगिल युद्ध के दौरान संजय कुमार मस्को वैली प्वाइंट 5875 पर तैनात थे। यहां उनके साथ उनके 11 साथी मौजूद थे। दुश्मनों से लोहा लेते हुए उनके 2 साथी शहीद हो गए। वहीं 8 घायल हो गए।

संजय कुमार अकेले मुकाबला कर रहे थे। लेकिन एक समय ऐसा भी आया जब उनकी रायफल की गोलियां खत्म होने वाली थीं। इसी बीच उन्हें तीन गोलियां लग गईं। दो उनकी टांगों में और एक गोली उनकी पीठ पर लगी। संजय कुमार के सामने करो या मरो वाली स्थिति आ गई।

26 जनवरी के लिए सबसे बेस्ट 'गणतंत्र दिवस पर कविता'

इस पर उन्होंने फैसला लिया कि अचानक से हमला किया जाए। और सभी दुश्मनों को मार दें। उन्होंने ऐसा ही किया। अचानक से किए हमले में उन्होंने तीन दुश्मनों को मार गिराया। जिसे देख कर बाकी दुश्मन उस पोस्ट को छोड़ कर भाग निकले। यहां दुश्मन अपनी यूनीवर्सल मशीनगन को भी वहीं छोड़ कर चले गए।

जिसे संजय कुमार ने उठा लिया और उसी से दुश्मनों का सफाया शुरू किया। इसे देख कर अन्य जवान भी काफी उत्साहित हुए। जिसके बाद वो भी पूरी ताकत से दौड़ पड़े। संजय कुमार तब तक लड़ाई लड़ते रहे जब तक प्वाइंट फ्लैट टॉप पाकिस्तानियों से पूरी तरह खाली नहीं हो गया। उनकी इस वीरता के कारण उन्हें परमवीर चक्र (Param Vir Chakra) से सम्मानित किया गया।

Republic Day Parade 2019

गणतंत्र दिवस परेड 2019

बन्ना सिंह (Banna Singh)

बन्ना सिंह (Banna Singh) को परमवीर चक्र उनके सियाचिन ग्लेशियर में बहादुरी के लिए दिया गया था। सियाचिन में एक ऐसी जगह है जहां भारत, पाकिस्तान और चीन की सीमा आपस में मिलती है। भले ही वहां एक भी घास न उगे लेकिन भारत के लिए यह भू-राजनैतिक दृष्टिकोण से बहुत जरूरी जगह है। क्योंकि इस जगह भारत के दोनो ओर उसके दुश्मन ही बैठे हैं।

1987 की बात है। सियाचिन की ग्लेशियर में जहां भारत की चौकी के लिए जगह आरक्षित थी। वहां पाकिस्तान ने अपनी चौकी खड़ी कर दी। पाकिस्तानियों ने उस चौकी का नाम 'कायद चौकी' रखा। यह नाम पाकिस्तान के कायदे आजम मोहम्मद अली जिन्ना के नाम पर था। चौकी को ग्लेशियर पर एक दुर्ग की तरह बनाया गया था। जिसके चारो ओर बड़ी-बड़ी दीवार थी।

गणतंत्र दिवस पर दोस्तों को भेंजे ये HD वॉलपेपर

जिसकी ऊंचाई करीब 1500 फीट थी। भारत के क्षेत्र में अतिक्रमण करना पाकिस्तान के लिए महंगा पड़ने वाला था। भारतीय सेना ने यह साफ कर दिया था कि पाकिस्तानी चौकी को वहां से उखाड़ फेंका जाएगा। जिसकी जिम्मेदारी नायब सुबेदार बन्ना सिंह (Banna Singh) ने उठाई। चौकी को हटाने के लिए दीवार पर चढ़ने की कोशिश कई बार भारतीय सैनिक कर चुके थे।

पर कामयाबी नहीं मिली थी। तीन दिनों से लगातार बर्फ गिर रही थी। बंदूके सही से काम नहीं कर रही थी। बन्ना सिंह अपने साथियों के साथ दीवार पर चढ़ने में कामयाब हो गए। यहां उन्होंने अपने सैनिकों के दल को दो हिस्सों में बांट दिया। और कायद पोस्ट पर ग्रेनेड फेंकना शुरू कर दिया। ग्रेनेड के हमले से बंकर तबाह हो गए।

जानिए गणतंत्र दिवस पर क्या कहते हैं आपके पसंदीदा टीवी कलाकार

दूसरे दल के सैनिकों ने दुश्मनों को मौत के घाट उतारना शुरू किया। भारत की ओर से हुए इस हमले में पाकिस्तान की स्पेशल सर्विस ग्रुप (SSG) के कमांडो मारे गए। और कई चौकी छोड़कर भाग निकले। बन्ना सिंह और उनकी टीम ने चौकी पर कब्जा कर लिया। इस बहादुरी के कारण बन्ना सिंह (Banna Singh) को परमवीर चक्र (Param Vir Chakra) से सम्मानित किया गया।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story