Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गणतंत्र दिवस 2019: भारत के संविधान की 10 बातें आपको जरूर जाननी चाहिए

26 जनवरी 2019 को भारतीय गणतंत्र (Republic Day 2019) के 70 वर्ष पूरे हो जाएंगे। 26 जनवरी 1950 को हमारा संविधान लागू हुआ था। भारत का संविधान दुनिया में सबसे अलग माना जाता है। लेकिन इस संविधान की कुछ ऐसी बाते हैं जो एक भारतीय होने के नाते आपको जाननी चाहिए।

गणतंत्र दिवस 2019: भारत के संविधान की 10 बातें आपको जरूर जाननी चाहिए

Republic Day 2019

26 जनवरी 2019 को भारतीय गणतंत्र (Republic Day 2019) के 70 वर्ष पूरे हो जाएंगे। 26 जनवरी 1950 को हमारा संविधान लागू हुआ था। भारत का संविधान दुनिया में सबसे अलग माना जाता है। लेकिन इस संविधान की कुछ ऐसी बाते हैं जो एक भारतीय होने के नाते आपको जाननी चाहिए।


संविधान की मूल प्रति किसके द्वारा लिखी गई है?

प्रेम बिहारी नारायण रायजादा ने भारतीय संविधान की मूल प्रति हाथ से लिखी थी।

संविधान की मूल प्रति कहां है?

भारत का संविधान हिंदी और अंग्रेजी में लिखी हुई मूल प्रति भारतीय संसद की लाइब्रेरी में एक हीलियम केस में रखी है।

संविधान में कितने अनुच्छेद हैं?

भारत के संविधान में 395 अनुच्छेद, 22 भाग और 12 अनुसूचियां हैं। भारतीय संविधान इस दुनिया का सबसे लंबा लिखित संविधान है।

संविधान को लिखने में कितना समय लगा?

भारतीय संविधान को पूरी तरह से तैयार करने में 2 साल, 11 महीने और 18 दिन का समय लगा था।

संविधान सभा के अध्यक्ष कौन थे?

भारतीय संविधान को तैयार करने के लिए भारत की संविधान सभा बनाई गई थी। इसके अध्यक्ष डॉ राजेंद्र प्रसाद थे।

संविधान सभा की पहली बैठक कब हुई?

संविधान सभा की पहली बैठक 9 दिसंबर 1946 के दिन हुई थी।

संविधान पर कितने सदस्यों ने हस्ताक्षर किया था?

भारतीय संविधान पर 24 जनवरी 1950 को संविधान सभा के 284 सदस्यों ने हस्ताक्षर किए थे। इसमें 15 महिलाएं थीं।

भारत में संविधान कब लागू हुआ था?

भारत में 26 जनवरी 1950 को संविधान लागू हुआ था।

भारतीय संविधान की प्रस्तावना किस देश से प्रेरित है?

Republic Day 2019 : भारतीय संविधान में छिपे हैं आपके ये 6 मौलिक अधिकार

भारतीय संविधान की प्रस्तावना अमेरिका के संविधान से प्रेरित है। दोनों की शुरुआत वी द पीपुल से होती है।

संविधान की प्रस्तावना में स्वतंत्रता, समानता व भ्रातृत्व के आदर्श कहां से लिए गए हैं?

फ्रांसीसी क्रांति से संविधान की प्रस्तावना में स्वतंत्रता, समानता व भ्रातृत्व का आदर्श लिया गया है।

Next Story
Share it
Top