Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मराठा आंदोलनः मुंबई की सड़कों पर उतरे 6 लाख मराठी, सबकी है ये मांगें

मुंबई के छात्रों, सरकारी कर्मचारियों और डब्बवालों ने भी विरोध प्रदर्शन में भाग लिया।

मराठा आंदोलनः मुंबई की सड़कों पर उतरे 6 लाख मराठी, सबकी है ये मांगें

मराठा समुदाय के लाखों लोग चाहे वो छात्र हो या नौकरीशुदा रोजगार और शिक्षा में आरक्षण की मांग के साथ बुधवार को सभी मुंबई की सड़कों पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

आइए आपको बताते हैं कि आखिर किन मांगों के साथ मराठा समुदाय के लोग इतनी बड़ी संख्या में मुंबई की सड़कों पर उतर आए हैं:
मराठा क्रांति मोर्चा ने कोपार्डी बलात्कार और हत्या के मामले में अपराधियों को सजा दिलाने के लिए, शिक्षा और सरकारी नौकरियों में दोहरे आरक्षण की मांग, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति में संशोधन के लिए मूक मोर्चा का आयोजन किया।
इसके साथ उन्होंने कानून का दुरूपयोग रोकने के लिए, किसानों द्वारा कर्ज के बोझ तले दब कर आत्महत्या और कृषि के बेहतर उत्पादन के लिए विरोध प्रदर्शन किया।
मुंबई के छात्रों, सरकारी कर्मचारियों और डब्बवालों ने भी भगवा झंडा हाथ में ले कर विरोध प्रदर्शन में भाग लिया।
पुलिस के अनुसार, इस प्रदर्शन में 2 लाख से अधिक प्रदर्शनकारी हाथ में भगवा ध्वज लिए हुए मुबई की सड़कों पर उतरे लेकिन इस दौरान हिंसा का एक भी मामला सामने नहीं आया। शिवसेना कार्यकर्ता भी इस प्रदर्शन में शामिल हो गए।
इस जुलूस को राज्य के आयोजकों द्वारा मराठा तूफ़ान की संज्ञा भी दी जा सकती है, जो कि महाराष्ट्र विधानसभा के मानसून सत्र के समय आया है। ये स्थिति महाराष्ट्र में सत्ताधारी बीजेपी और शिवसेना के लिए एक चुनौती के रूप में उभरा है।
पिछले हफ्ते महाराष्ट्र के राजस्व मंत्री चंद्रकांत पाटिल ने रैली आयोजित करने से पहले सरकार के साथ अपने लंबित मुद्दों पर चर्चा करने के लिए मराठा समुदाय के नेताओं से अपील की थी।
उन्होंने कहा था, 'सरकार ने अपनी अधिकांश मांगों पर निर्णय ले लिया है .... हमने छात्रों के लाभ के लिए आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग के लिए 5 लाख रुपये से 6 लाख रुपये की वार्षिक पारिवारिक आय बढ़ाकर पात्रता में संशोधन किया है।'
महाराष्ट्र के शिक्षा मंत्री विनोद तावडे ने घोषणा की थी कि दक्षिण मुंबई में सभी शैक्षणिक रचनाएं बुधवार को मुंबई बंद रहेंगी ताकि छात्रों को जुलूस के दौरान असुविधा न हो। घोषणा के बाद, स्कूल शिक्षा के उप निदेशक द्वारा एक परिपत्र जारी किया गया था।
Next Story
Share it
Top