Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

घोटालों के बाद सख्त हुआ RBI, तीन प्राईवेट बैंकों के CEO का बोनस रोका

बैंकिंग क्षेत्र में लगातार घोटालों की खबरों के बीच रिजर्व बैंक ऑफ इंडिय ने तीन प्राइवेट बैंकों के सीईओ का बोनस फिलहाल रोक दिया है।

घोटालों के बाद सख्त हुआ RBI, तीन प्राईवेट बैंकों के CEO का बोनस रोका
X

बैंकों में निकल के आ रहे अरबों रुपये के महाघोटालों के बीच रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने तीन प्रमुख प्राइवेट बैंकों के सीईओ का पिछले साल के लिए दिए जाने वाले बोनस पर फिलहाल रोक लगा दी है। यह बोनस राशि करीब 6 करोड़ रुपये है जो कि बैंकों द्वारा इन सीईओ को वित्त वर्ष 2016-17 की परफॉर्मेंस के लिए दिया जाना था।

सूत्रों के अनुसार रिजर्व बैंक ने आईसीआईसीआई की सीईओ चंदा कोचर, एक्सिस बैंक की शिखा शर्मा और एचडीएफसी बैंक के आदित्य पुरी को 31 मार्च, 2017 को खत्म वित्त वर्ष के लिए अभी बोनस जारी करने की अनुमति नहीं दी है।
आईसीआईसीआई बैंक के निदेशक बोर्ड ने कोचर को 2.2 करोड़ रुपये का बोनस देने की मंजूरी दी है, जबकि शिखा शर्मा को 1.35 करोड़ रुपये और आदित्य पुरी को 2.9 करोड़ रुपये की बोनस राशि का भुगतान किया जाना है। इस बारे में पूछे जाने पर एक्सिस बैंक के प्रवक्ता ने कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया जबकि बाकी दो बैंकों ने ई-मेल और फोन कॉल का जवाब नहीं दिया।
वित्तीय विशेषज्ञों के अनुसार अपनी तरह का यह पहला मामला है जब रिजर्व बैंक ने बैंकों के सीईओ को बोनस जारी करने में देरी की है। आमतौर पर यह बोनस 31 मार्च को वित्तीय वर्ष खत्म होने से पहले ही जारी कर दिया जाता है।
रिलायंस सिक्योरिटीज लिमिटेड के विश्लेषक आशुतोष कुमार मिश्रा ने कहा, ‘बोनस जारी करने में इस तरह की देरी पहले कभी नहीं हुई, लेकिन साथ ही किसी एक साल में बैंकिंग जगत में इतने घपले-घोटाले भी सामने नहीं आए थे।’
रिजर्व बैंक के ऑडिट के मुताबिक मार्च, 2017 में समाप्त वित्त वर्ष में एक्सिस बैंक ने 5600 करोड़ रुपये के डूबे हुए कर्जों की जानकारी छुपाई है। एचडीएफसी की भी वित्तीय रिपोर्ट में कई अनियमितताएं पाई गई हैं। आईसीआईसीआई बैंक का कहना है कि उसे डूबते ऋणों के बारे में जानकारी देने की जरूरत ही नहीं है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story