Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

5000 से ज्‍यादा के पुराने नोट जमा करने पर प्रतिबंध हटा

अब बिना पूछताछ के बैंक खाते 5000 रुपये से ज्‍यादा के पुराने नोट जमा हों

5000 से ज्‍यादा के पुराने नोट जमा करने पर प्रतिबंध हटा
X
नई दिल्‍ली. बैंक खातों में 30 दिसंबर तक 5000 रुपये से ज्‍यादा के पुराने नोट जमा करने पर लगे प्रतिबंध को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने वापस ले लिया है। इस फैसले के बाद से अब बिना पूछताछ के बैंक खाते 5000 रुपये से ज्‍यादा के पुराने नोट जमा होंगे। जमाकर्ता को अब बैंक अधिकारियों को अभी तक पैसा जमा न कराने की वजह बतानी होगी।
आरबीआइ ने इस संबंध में जारी नोटिफिकेशन वापस लेते हुए कहा है कि जिन खातों के साथ नो योर कस्टमर (केवाइसी) उपलब्ध हैं, उनमें 5,000 रुपये से ज्यादा जमा पर कोई पाबंदी नहीं रहेगी। बता दें कि इस फैसले की काफी अलोचना हो रही थी।
बता दें कि रिजर्व बैंक ने बीते दिनों यह फैसला दिया था कि इस नियम के तहत कोई व्यक्ति 30 दिसंबर तक 5000 रुपये से अधिक अप्रचलित नोट केवल एक बार ही जमा करवा सकेगा और उसे यह भी बताना होगा कि यह राशि अब तक क्यों नहीं जमा करवाई गई। आरबीआइ ने 30 दिसंबर तक एक बैंक खाते में 500 और 1,000 के पुराने या बंद नोटों में 5,000 रुपये से अधिक की राशि जमा कराने पर कड़े अंकुश लगा दिए थे।
रिजर्व बैंक ने यह भी कहा था कि नई कालाधन माफी योजना, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (पीएमजीकेवाई), 2016 के तहत खातों में पुराने नोटों में कितनी भी राशि जमा कराई जा सकती है। रिजर्व बैंक की अधिसूचना में कहा गया था कि बैंक खातों में पुराने नोटों को जमा कराने पर कुछ अंकुश लगाए गए हैं। वहीं पीएमजीकेवाई योजना के लिए कराधान एवं निवेश व्यवस्था के तहत कितनी भी राशि जमा कराई जा सकती है।
पीएमजीकेवाई योजना के तहत कालाधन धारक खाते में बेहिसाबी धन जमा करा सकते हैं। इस पर उन्‍हें 50 प्रतिशत कर देना होगा। और शेष 25 प्रतिशत राशि को चार साल तक बिना ब्याज वाले खाते में जमा कराना होगा। वहीं, वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बीते दिनों कहा था कि अगर कोई एक बार में पुराने 500 और 1,000 रुपये के नोट जमा करता है तो कोई सवाल नहीं पूछा जाएगा लेकिन बार-बार पैसा जमा करने पर प्रश्न पूछे जा सकते हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story