Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पार्टी से निकलने के बाद पहली बार बोले रामगोपाल, ये ''असंवैधानिक''

रामगोपाल यादव ने कहा कि बिना पक्ष सुने कार्रवाई नहीं की जा सकती है।

पार्टी से निकलने के बाद पहली बार बोले रामगोपाल, ये असंवैधानिक
X
नई दिल्ली. समाजवादी पार्टी के भीतर पिछले काफी वक्‍त से चल रहे विवाद ने एक नया मोड़ ले लिया है। मुलायम सिंह ने यूपी सीएम अखिलेश यादव और पार्टी महासचिव रामगोपाल यादव को पार्टी से बाहर निकालने के बाद सबसे पहले रामगोपाल ने नेताजी पर निशाना साधा। रामगोपाल यादव कहा कि ये निष्‍कासन पूरी तरह से असंवैधानिक है। नेताजी ऐसा कैसे कर सकते हैं।
बता दें कि पार्टी से निकाले जाने के बाद रामगोपाल यादव ने कहा कि ये निष्‍कासन पूरी तरह से असंवैधानिक है। बिना पक्ष सुने कार्रवाई नहीं की जा सकती। सम्‍मेलन तो बुलाया ही जाएगा। नेताजी (मुलायम सिंह) को पार्टी का मालूम नहीं है। इस पार्टी में लगातार शीर्ष स्तर से असंवैधानिक काम हो रहे हैं। अगर पार्टी का अध्यक्ष असंवैधानिक काम करे तो फिर सम्मेलन कौन बुलाएगा? एक भी मीटिंग नहीं हुई तो फिर कैसे पार्टी के उम्मीदवार घोषित किए गए। पार्टी के कार्यकर्ताओं की मांग पर सम्मेलन बुलाया गया।
समाजवादी पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने शुक्रवार शाम एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव और पार्टी महासचिव रामगोपाल यादव को 6 साल के लिए पार्टी से निष्‍कासित कर दिया। उन्‍होंने कहा कि रामगोपाल ने पार्टी को बहुत नुकसान पहुंचाया है। मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव नहीं समझ रहे। रामगोपाल उनका भविष्‍य बर्बाद कर रहे हैं।
जानकारी के लिए बता दें कि गुरुवार देर शाम अखिलेश यादव ने 235 उम्मीदवारों की अपनी लिस्ट जारी कर दी थी। इसे साफ तौर पर समाजवादी पार्टी में दो-फाड़ के तौर पर देखा गया था। अखिलेश की इस लिस्‍ट में मुलायम की ओर से जारी सूची से 32 नाम अलग थे। बाकी की सीटों पर उन्हीं प्रत्याशियों को उम्मीदवार बनाया गया, जो मुलायम की लिस्ट में थे। अखिलेश के पसंद के उम्मीदवारों में 171 मौजूदा विधायक और 64 नए उम्‍मीदवार थे।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story