Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने जस्टिस यूयू ललित पर उठाया यह सवाल, अब नहीं करेंगे सुनवाई

राम मंदिर (Ram Temple) मामले पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में आज पांच जजों की संविधान पीठ ने सुनवाई शुरू की। इस मामले में कोर्ट ने आज सुनवाई से इनकार कर दिया। कोर्ट ने कहा कि आज सिर्फ समय सीमा तय की जाएगी। कोर्ट में सुनवाई के पहले दिन ही मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन (Rajeev Dhavan) ने संविधान पीठ पर ही सवाल उठा दिया।

मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने जस्टिस यूयू ललित पर उठाया यह सवाल, अब नहीं करेंगे सुनवाई
राम मंदिर (Ram Temple) मामले पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में आज पांच जजों की संविधान पीठ ने सुनवाई शुरू की। इस मामले में कोर्ट ने आज सुनवाई से इनकार कर दिया। कोर्ट ने कहा कि आज सिर्फ समय सीमा तय की जाएगी। कोर्ट में सुनवाई के पहले दिन ही मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन (Rajeev Dhavan) ने संविधान पीठ पर ही सवाल उठा दिया।
राजीव धवन (Rajeev Dhavan) ने पांच जजों की बेंच में शामिल जस्टिस उदय यू ललित (UU Lalti) पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि जस्टिस यूयू ललित (UU Lalti) एक पक्ष की तरफ से 1994 में वकील के रूप में कोर्ट के समक्ष प्रस्तुत हो चुके हैं। आपको बता दें कि 1994 में जस्टिस यूयू ललित (UU Lalit) यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के लिए वकील (Kalyan Singh Advocate) रह चुके हैं।
वह इस मामले से इस लिए जुड़ जाते हैं। क्योंकि जिस समय कल्याण सिंह मुख्यमंत्री (Kalyan Singh) थे तभी बाबरी ढांचे को गिराया गया था। कोर्ट ने राजीव धवन (Rajeev Dhavan) की टिप्पणी को गंभीरता से लिया। और वापस सवाल किया कि वह मामला तो क्रिमिनल केस था। फिर यह सवाल क्यों?
जिसके बाद राजीव धवन (Rajeev Dhavan) ने कोर्ट से माफी मांगी। लेकिन फिर भी पांचों जज ने इस मामले पर आपस में बातचीत की। जस्टिस यूयू ललित (UU Lalit) ने खुद को इस मामले से अलग कर लिया। कोर्ट ने कहा है कि 29 जनवरी को इस मामले में नई बेंच का गठन किया जाएगा। मुस्लिम पक्ष के वकीलों ने यह भी कहा कि अभी कई दस्तावेज हैं जिनका अनुवाद नहीं हो सका है।
Loading...
Share it
Top