Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

आपने किया टिकट कैन्सल और रेलवे ने कर ली इतनी कमाई

पिछले वित्त वर्ष की तुलना में 25 फीसदी की वृद्धि हुई है।

आपने किया टिकट कैन्सल और रेलवे ने कर ली इतनी कमाई

कैसिंलेशन से रेलवे की कमाई

रेलवे ने 2016-17 के वित्तीय वर्ष में टिकट कैंसिलेशन के जरिए 1,400 करोड़ रुपये की वसूली की है। बता दे यह पिछले वित्त वर्ष की तुलना में 25 फीसदी की वृद्धि हुई है।

नवंबर 2015 में आय में हुई बढ़ोतरी के कारण टिकट रद्द करने के शुल्क के दोगुनेकरण के कारण हो सकती है।

25 प्रतिशत वृद्धि

रेलवे राज्य मंत्री राजेन गोहैन ने राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा, कि पिछले वर्ष की तुलना में 2016-17 तक टिकट रद्द हो जाने के कारण राशि में करीब 25 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

शर्तें लागू

रेलवे राज्य मंत्री राजेन गोहैन ने कहा, रेलवे यात्रियों पर टिकट रद्द करने और किराये की वापसी के लिए नियम, 2015 के अनुसार टिकटों को रद्द करने के लिए शुल्क लगाया गया है।

प्रावधानों के अधीन, यह नियम किराया वापसी के लिए प्रदान करते हैं। "हालांकि, नियमों के तहत रिकवरी योग्य रद्दीकरण शुल्क वापस करने का कोई प्रावधान नहीं है।

कैसिंलेशन और क्लर्क शुल्क

मंत्री ने यह भी कहा कि दक्षिण-मध्य रेलवे ने 2016-17 के दौरान आरक्षित टिकट पर रद्दीकरण और क्लर्क शुल्क के रूप में 103.27 करोड़ रुपये की वसूली की है।

नवंबर 2015 से प्रभावी नियम के बाद, एक कनर्फम एसी 3-टियर टिकट के लिए रद्दीकरण शुल्क, ट्रेन की निर्धारित प्रस्थान से 48 घंटे पहले, 90 रुपये से 180 रुपये किया गया था।

जबकि एसी 2-टियर के लिए 100 रुपये के स्थान पर रद्दीकरण 200 रुपये कर दिया गया था।

कनर्फम टिकट कैसिंलेशन पर शुल्क

स्लीपर क्लास की कनर्फम टिकट रद्द करने का शुल्क दोगुना होकर 120 रुपये हो गया, जबकि द्वितीय श्रेणी का शुल्क 30 रुपये से बढ़ाकर 60 रुपये हो गया।

जबकि ट्रेन खुलने से 12 घंटा पहले टिकट रिफंड करवाने वाले से ऊपर दी गई राशि के अतिरिक्त और 25 प्रतिशत राशि काटी जाएगी। वहीं 12 घंटे से लेकर 4 घंटे के बीच टिकट रद्द करवाने पर 50 प्रतिशत राशि काट ली जाएगी।

नए नियम के तहत

नए नियम के तहत ट्रेन प्रस्थान के बाद टिकट पैसे वापस करने का कोई विकल्प नहीं है। ट्रेन के प्रस्थान से 4 घंटे पहले तक टिकट रद्द करने का विकल्प उपलब्ध है।

Next Story
Share it
Top