Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

कांग्रेस की खुल गई पोल, विधानसभा चुनावो में भी दिखेगा राहुल का ''मंदिर पॉलिटिक्स''

एआईसीसी ने राजस्थान और कर्नाटक समेत कई राज्यों की स्टेट यूनिट से अपने अपने प्रदेशों की रिलीजियस महत्व वाली जगहों की लिस्ट मांगी है।

कांग्रेस की खुल गई पोल, विधानसभा चुनावो में भी दिखेगा राहुल का

छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और राजस्थान में इस साल विधानसभा चुनाव होने हैं। इसे देखते हुए कांग्रेस ने अभी से तैयारी शुरू कर दी है। कांग्रेस के रणनीतिकारों का मानना है कि गुजरात चुनाव के दौरान राहुल गांधी के मंदिर दर्शन की पॉलिटिक्स को जनता ने पसंद किया। जिस कारण गुजरात में कांग्रेस को संजीवनी मिली है। इसी तर्ज पर कांग्रेस अब राजस्थान में इसे और आगे बढ़ाने जा रही है।

ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) ने राजस्थान और कर्नाटक समेत कई राज्यों की स्टेट यूनिट से अपने अपने प्रदेशों की रिलीजियस महत्व वाली जगहों की लिस्ट मांगी है। हिंदुओं में अपना खोया जनाधार वापस पाने के लिए कांग्रेस मंदिर पॉलिटिक्स को गंभीरता से ले रही है। गौर करने वाली बात यह है कि गुजरात चुनाव के दौरान राहुल गांधी ने 27 मंदिरों पर मा​था टेका व इन इलाकों में रैलियां भी किया। गुजरात की करीब 87 सीटें मंदिरों से प्रभावित मानी जाती हैं। कांग्रेस को इनमें से 47 सीटों पर जीत मिली।

पढ़ें- 133वां कांग्रेस स्थापना दिवस: बोले राहुल गांधी, बाबा साहेब अंबेडकर का दिया हुआ संविधान खतरे में

राहुल खुद संभाल सकते हैं कमान
कर्नाटक व राजस्थान में विधानसभा चुनाव के दौरान राहुल गांधी के साथ राज्य के बड़े कांग्रेसी नेताओं को मंदिर और दूसरी धार्मिक जगहों के दर्शन कराए जाने की योजना तैयार की जा रही है। इतना ही नहीं जिन जगहों पर लोकसभा और एक विधानसभा उपचुनाव होना है वहां भी इसी तर्ज पर राहुल गांधी प्रचार के लिए आ सकते हैं। राहुल गांधी के सलाहकारों का फोकस ऐसे मंदिरों पर है, जिनकी बड़ी धार्मिक मान्यता है।
राजस्थान के बड़े मंदिर
राजस्थान के बड़े मंदिरों में चित्तौडगढ़ के सांवलियाजी, राजसमंद के चारभुजाजी, नाथद्वारा में श्रीनाथजी, पुष्कर के ब्रह्मा मंदिर, बांसवाड़ा के त्रिपुरा सुंदरी, करौली में मदनमोहनजी, कैलादेवी, सालासार बालाजी, बीकानेर जिले के जंभेश्वर मंदिर, देशनोक करणी माता, अलवर जिले के भृर्हतरी मंदिर और जयपुर के गोविंददेवजी मंदिर शामिल हैं। इन मंदिरों पर कांग्रेस नेता फोकस कर सकते है। राजस्थान कांग्रेस के वाइस प्रेसिडेंट मुमताज मसीह ने कहा है कि हाईकमान की ओर से धार्मिक स्थलों, पर्यटन स्थलों, ऐतिहासिक महत्व वाले स्थलों की सूचना मंगाई गई है। इसकी सूचना तैयार करके केंद्रीय नेतृत्व को भेज दी जाएगी। राजस्थान विधानसभा में कुल 200 सीटें हैं। फिलहाल, 163 बीजेपी और सिर्फ 21 कांग्रेस के पास हैं।
छत्तीसगढ़-मप्र की बारी
राजस्थान की सूची कांग्रेस कमेटी को मिल चुकी है। अब छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश की सूची की बारी है। जल्द ही यहां के मंदिरों की सूची नई दिल्ली भेजी जा सकती है।
गुजरात चुनाव में
गुजरात में पिछले महीने ही चुनाव हुए। राहुल ने गुजरात में 85 दिन कैम्पेन किया। कांग्रेस की नई स्ट्रैटेजी के तहत वो कुल 27 मंदिरों में गए। इन इलाकों में रैलियां भी कीं। गुजरात की करीब 87 सीटें मंदिरों से प्रभावित मानी जाती हैं। कांग्रेस को इनमें से 47 पर जीत मिली।
Next Story
Share it
Top