Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

कोर्ट में पेश हुए राहुल गांधी, RSS पर लगाए गंभीर आरोप

कोर्ट में पेश होने के बाद राहुल ने कहा कि RSS देश बांटने की विचारधारा है

कोर्ट में पेश हुए राहुल गांधी, RSS पर लगाए गंभीर आरोप
गुवाहटी. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी गुरुवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े मानहानि के एक मामले में असम के कामरूप जिले की मेट्रोपॉलिटन अदालत में पेश हुए। मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट ने राहुल को 6 अगस्त को समन जारी करके 29 सितम्बर को अदालत के सामने उपस्थित होने का आदेश दिया था। आरएसएस के कार्यकर्ता अंजन बोरा ने राहुल के खिलाफ कामरूप के सीजेएम की अदालत में आपराधिक मानहानि मामला दायर किया था। राहुल के खिलाफ IPC की धारा 499 और 500 के तहत मामला दर्ज कराया गया था।
इसमें आरोप लगाया गया था कि बारपेटा सतरा में आरएसएस कार्यकर्ताओं द्वारा प्रवेश नहीं करने देने का आरोप लगाकर संगठन की छवि को खराब किया है। बारपेटा सतरा 16वीं सदी का वैष्णो मंदिर है। राहुल ने 12 दिसम्बर 2015 को ये आरोप लगाए थे।
कोर्ट में पेश होने के बाद राहुल ने कहा कि RSS देश बांटने की विचारधारा है। उन्होंने कहा, 'मैं देश के किसानों, गरीबों और मजदूरों की मदद करना चाहता हूं। मेरे काम को दबाने के लिए मेरे ऊपर केस दर्ज कराए जा रहे हैं, लेकिन इनके रोकने से मैं रुकने वाला नहीं हूं। देश के मजदूब, गरीब और बेरोजगार युवाओं के लिए काम करना मेरे डीएनए में है, मैं इनके लिए काम करता रहूंगा।' RSS के वकील ने बताया कि राहुल को 50 हजार के बॉन्ड भरने पर जाने दिया गया।
RSS के कार्यकर्ता अंजन बोरा ने राहुल गांधी के खिलाफ मानहानि का केस दर्ज कराया था। बोरा का आरोप है कि राहुल ने मीडिया के सामने कहा था कि उन्हें RSS ने असम के बारपेटा जिले में स्थित बारपेटा सत्र में प्रवेश नहीं दिया था। बोरा ने कहा कि राहुल पिछले साल बारपेटा सत्र जाने वाले थे लेकिनन उन्होंने बाद में बारपेटा जाने के बजाय शहर में एक रैली में जाने का फैसला किया था। बोरा ने कहा कि बारपेटा सत्र का आयोजन RSS नहीं करता इसलिए वह राहुल गांधी को रोक ही नहीं सकता।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top