Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

राहुल ने संसद में कहा, राफेल पर बोलने की पीएम की हिम्मत नहीं

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को राफेल मुद्दे को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर एक बार फिर निशाना साधा और लोकसभा में कहा कि इस मामले में सवालों का सामना करने के लिए संसद में आने की हिम्मत प्रधानमंत्री में नहीं है और वह अपने कमरे में ‘छिपे हुए'' हैं।

राहुल ने संसद में कहा, राफेल पर बोलने की पीएम की हिम्मत नहीं

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को राफेल मुद्दे को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर एक बार फिर निशाना साधा और लोकसभा में कहा कि इस मामले में सवालों का सामना करने के लिए संसद में आने की हिम्मत प्रधानमंत्री में नहीं है और वह अपने कमरे में ‘छिपे हुए' हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि अब इस मामले में ‘पूरी दाल काली' है तथा अब पूरा देश प्रधानमंत्री से सवाल पूछ रहा है कि किसके कहने पर राफेल का सौदा बदला गया। लोकसभा में राफेल मामले पर चर्चा के दौरान उन्होंने दावा किया कि संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) की जांच से ही इस मामले में ‘दूध का दूध, पानी का पानी' हो जाएगा।

गांधी ने राफेल मामले से संबंधित गोवा सरकार के मंत्री विश्वजीत राणे की कथित बातचीत का ऑडियो प्ले करने की इजाजत मांगी, लेकिन लोकसभा अध्यक्ष ने ऑडियो अथवा इसके लिखित ब्यौरे को पढ़ने की इजाजत देने से इनकार कर दिया।

वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कहा कि यह ऑडियो झूठा है और, इसलिए राहुल इसकी पुष्टि करने से मना कर रहे हैं। जेटली ने कहा कि राणे ने इसे ‘मनगढ़ंत' करार दिया है। सदन में हंगामे के दौरान कार्यवाही पांच मिनट के लिए स्थगित कर दी गई।

इंटरव्यू में पीएम ने राफेल पर नहीं दिए जवाब

गांधी ने कहा, मोदी जी पूर्वनियोजित साक्षात्कार में 90 मिनट बोले, लेकिन राफेल मुद्दे पर सवालों का जवाब नहीं दिया। उन्होंने कहा कि भाजपा के लोग डरें नहीं, जेपीसी की जांच कराएं। दूध का दूध, पानी का पानी हो जाएगा तथा देश को यह पता चल जाएगा कि ‘मोदी जी ने ‘डबल ए' (अनिल अंबानी) की जेब में 30 हजार करोड़ रुपए डाले हैं। उल्लेखनीय है कि अंबानी समूह ने इन आरोपों से पहले ही इंकार किया है।

रक्षा मंत्री हंगामा कर रहे सदस्यों के पीछे छिप रही

कांग्रेस अध्यक्ष ने उद्योगपति को प्रधानमंत्री का ‘प्रिय मित्र' और ‘विफल उद्योगपति' करार देते हुए कहा कि राफेल विमान सौदे में ऑफसेट कांट्रैक्ट मिलने से 10 दिन पहले उन्होंने कंपनी पंजीकृत कराई थी। सदन में मौजूद रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण पर कटाक्ष करते हुए गांधी ने कहा कि वह हंगामा कर रहे अन्नाद्रमुक सदस्यों के पीछे छिप रही हैं और प्रधानमंत्री मोदी अपने कमरे में ‘छिपे हुए' हैं।

किसके कहने पर पीएम ने राफेल की संख्या घटाई

गांधी ने कहा कि संप्रग सरकार के समय वायुसेना के कहने पर 126 राफेल विमान खरीदने की प्रक्रिया आगे बढ़ी थी, लेकिन प्रधानमंत्री ने नए सौदे में विमानों की संख्या घटाकर 36 कर दी गई। उन्होंने सवाल किया कि प्रधानमंत्री बताएं कि किसके कहने पर यह किया गया, क्या वायुसेना ने ऐसा करने के लिए कहा था?

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि पहले हमें लगा कि इस मामले में दाल में कुछ काला है, लेकिन अब पता चला कि पूरी दाल ही काली है। गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री से अब इस मामले में पूरा देश में सवाल पूछ रहा है।

Loading...
Share it
Top