Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अध्यक्ष बनने के बाद सामने आया राहुल का पहला इंटरव्यू, कहा - ''कर्म करता हूं फल की चिंता नहीं''

राहुल ने कहा कि मेरी जितनी भी आलोचना होती है मैं उतना ही मजबूत बन जाता हूं।

अध्यक्ष बनने के बाद सामने आया राहुल का पहला इंटरव्यू, कहा -

कांग्रेस उपाध्यक्ष से हाल ही में अध्यक्ष बनें राहुल गांधी ने एक गुजराती चैनल को अपना इंटरव्यू दिया। इंटरव्यू के दौरान राहुल ने कहा कि गुजरात चुनाव एक तरफा होने वाला है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेताओं ने मुझे वहां ज्यादा कैंपेन करने से मना कर दिया है लेकिन मुझे इसमें दिलचस्पी है और नतीजे से मतलब नहीं है।

राहुल ने कहा कि गीताजी में लिखा है कि कर्म करो फल की चिंता मत करो और मैं उसी को मानता हूं। राहुल ने कहा कि कांग्रेस एक पुरानी विचारधारा वाली पार्टी है और भारतीय जनता पार्टी के पास कोई विजन नहीं है। राहुल ने कहा कि मोदी गुजरात की जनता के सामने कोई विजन नहीं रख सके हैं।
राहुल ने कहा कि पिछले चार महीने से हम गुजरात के लोगों से बात कर रहे हैं। पिछले कुछ दिनों में मैनें दिल से गुजरात के लिए काम किया है और अभी मेरा सारा ध्यान गुजरात चुनावों पर है। गुजरातियों ने खाने की हर एक डिश में कुछ नया काम किया है।
राहुल ने कहा कि गुजरात का चुनाव राहुल और मोदी के बीच नहीं देखा जाना चाहिए। ये चुनाव गुजरात की आवाम, किसान, नौजवान और महिलाओं के मुद्दों पर है।
अपने मंदिर जाने पर पूछे जाने वाले सवाल पर राहुल ने कहा कि क्या मेरे मंदिर जाने पर मनागी है जो भाजपा के लोग सवाल उठा रहे हैं। वो घबराए हुए हैं। आप मेरी यात्रा को देखेंगे तो पता चल जाएगा कि मैं मंदिर जाता रहता हूं। मैं उत्तराखंड के केदारनाथ में गया।
राहुल ने कहा कि मैं मंदिर गया तो पुजारी ने बोला ये शॉल है मेरी बेटी को दे देना और जब मैनें उनसे पूछा कौन बेटी तो उन्होंने कहा कि सोनिया गांधी। फिर मैनें पुजारी की बात मां से कराई तो मेरी आंख में आंसू भर आए।
राहुल ने कहा कि मेरी जितनी भी आलोचना होती है मैं उतना ही मजबूत बन जाता हूं। राहुल ने कह कि मैं पीएम मोदी से नफरत कर ही नहीं सकता।
Share it
Top