logo
Breaking

बाबा साहेब अंबेडकर का दिया हुआ संविधान खतरे में है: राहुल गांधी

देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी कांग्रेस आज अपना 133वां स्थापना दिवस मना रही है।

बाबा साहेब अंबेडकर का दिया हुआ संविधान खतरे में है: राहुल गांधी

देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी कांग्रेस आज अपना 133वां स्थापना दिवस मना रही है। राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद ये कांग्रेस का पहला स्थापना दिवस समारोह है।

इस मौके पर आज देशभर में कांग्रेस की ओर से कई कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। गुरुवार सुबह कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मुख्यालय पहुंच झंडा फहराया।

ये भी पढ़ें- तीन तलाक पर मौलवियों का नया जुगाड़, अब कानून से ऐसे बचेंगे

स्थापना दिवस कार्यक्रम में राहुल ने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा सच का साथ दिया है, आज के समय में बाबा साहेब अंबेडकर का दिया हुआ संविधान खतरे में है, उस संविधान पर हमला हो रहा है। ये देखना दुखद है। लेकिन हमारा कर्तव्य है कि हम संविधान की रक्षा करें।
राहुल ने बीजेपी पर भी हमला बोलते हुए कहा कि बीजेपी लगातार झूठ के साथ आगे बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि हम भले ही हार जाएं, लेकिन सच का साथ नहीं छोड़ेंगे।

राहुल के हाथों में कांग्रेस की कमान

आपको बता दें कि राहुल गांधी हाल ही में 16 दिसंबर को कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष बने हैं। राहुल के अध्यक्ष बनने के बाद ही गुजरात और हिमाचल प्रदेश चुनाव के नतीजे आए थे। जिसमें कांग्रेस की हार हुई थी।
हालांकि, इन चुनावों में कांग्रेस ने काफी लंबे समय बाद वापसी की है, 2014 से देश में लगातार चुनावों में बीजेपी की एकतरफा जीत होती आई थी। लेकिन इन चुनावों में कांटे की टक्कर रही थी। राहुल ने खुद इस बात को स्वीकारते हुए कहा था कि हमने चुनावों में बीजेपी की नींद खराब कर दी
शुरुआत से लेकर अभी तक कांग्रेस में कई बदलाव होते हुए आए हैं। अब राहुल के अध्यक्ष बनने के बाद कांग्रेस पार्टी में एक बार फिर बड़े बदलावों की संभावना है।
सोनिया गांधी रिटायरमेंट के संकेत दे चुकी हैं, मुमकिन है कि पार्टी में युवा चेहरों को तरजीह अधिक मिलेगी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी नई दिल्ली स्थित कांग्रेस मुख्यालय पर चल रहे कार्यक्रम में हिस्सा लिया।

19 साल बाद नया अध्यक्ष

आपको बता दें कि यह लगभग दो दशक बाद है, जब कांग्रेस पार्टी को उसका नया पार्टी अध्यक्ष मिला हैं। मौजूदा अध्यक्ष सोनिया गांधी 1998 से पार्टी की कमान संभाल रही हैं।
नामांकन के दौरान राहुल के साथ पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह समेत कई कांग्रेसी दिग्गज शामिल हुए थे। हालांकि, सोनिया गांधी-प्रियंका गांधी शामिल नहीं हुई थीं। राहुल ने नामांकन से पहले सोनिया से उनके घर जा मुलाकात की थी।

कुछ ऐसा है इतिहास

कांग्रेस की स्थापना ब्रिटिश राज में 1885 में हुई थी। इसके संस्थापकों में ए ओ ह्यूम, दादा भाई नौरोजी और दिनशा वाचा शामिल थे। 1947 में आजादी के बाद, कांग्रेस भारत की प्रमुख राजनीतिक पार्टी बन गई।
आजादी से लेकर 2016 तक, 16 आम चुनावों में से, कांग्रेस ने 6 में को पूर्ण बहुमत से जीता हैं और 4 में सत्तारूढ़ गठबंधन का नेतृत्व किया। भारत में, कांग्रेस के सात प्रधानमंत्री रह चुके हैं।
पहले जवाहरलाल नेहरू थे और हाल ही में मनमोहन सिंह थे। 2014 के आम चुनाव में, कांग्रेस ने आजादी से अब तक का सबसे खराब आम चुनावी प्रदर्शन किया और 543 सदस्यीय लोकसभा में केवल 44 सीट जीतीं।
Loading...
Share it
Top