logo
Breaking

रघुराम राजन का नोटबंदी पर बड़ा बयान, अर्थव्यवस्था को लेकर कही ये बात

राजन ने कहा कि मैं समझता हूं कि अभी किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा जा सकता।

रघुराम राजन का नोटबंदी पर बड़ा बयान, अर्थव्यवस्था को लेकर कही ये बात

भारतीय रिजर्व बैंके के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने नोटबंदी पर एक बड़ा बयान दिया है। रघुराम राजन के अनुसार भारत में विकास दर में आई गिरावट का मुख्य कारण वर्ष 2016 में की गई नोटबंदी है।

राजन ने कहा कि मैं समझता हूं कि अभी किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा जा सकता। इस मामले पर हम तर्क-वितर्क करते रहेंगे, जबतक कि पिछली कर वसूली के आंकड़े नहीं आ जाते हैं। इसलिए इस बारे में अभी किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंचा जा सकता।
रघुराम राजन ने कहा कि मुझे संदेह है कि विकास दर में गिरावट का कारण नोटबंदी प्रभाव है। इसका प्रभाव अनौपचारिक अर्थव्यवस्था पर भी था, जिसे तुरंत नहीं पकड़ा जा सकता है, जैसा कि हम देख रहे हैं। व्यापार बंद हो रहे हैं, क्योंकि व्यापारी नोटबंदी के प्रभाव से उबर नहीं पा रहे हैं।
रघुराम राजन ने कहा कि अगर हमें नोटबंदी के सकारात्मक प्रभाव समझने हैं तो हमें इंतजार करना होगा और फिर देखना होगा। राजन ने कहा कि मुझे लगता है कि यह डिजिटल भुगतान प्रणाली को कुछ प्रोत्साहन देता है। लेकिन अगर इसकी तुलना दूसरे पहलुओं से किया जाए तो वो आशा के अनुसार छोटा है।
राजन से पूछा गया कि क्या वो अपने कार्यकाल में नोटबंदी को मंजूरी देते तो राजन ने कहा कि मुझे नहीं लगता कि नोटबंदी से मन मुताबिक फायदा होगा। हमसे सरकार ने नोटबंदी के वक्त राय-विचार किया था लेकिन उस समय हमने सुझाव में कहा था कि इससे उतना फायदा नहीं होने वाला और साथ में लागत भा काफी लगेगी।
जीएसटी के बारे में राजन ने कहा कि अब मुझे लगता है कि दीर्घकालिक अवधि में जीएसटी का बहुत सकारात्मक असर होगा। ऐसे लोग हैं जो कहते हैं कि हमें बेहतर तरीके से तैयारी करनी चाहिए थी। हमें इसे लागू करने में थोड़ी देर करनी चाहिए थी। मेरा मानना है ऐसा करने से कई समस्याएं कम हो जातीं।
Loading...
Share it
Top