logo
Breaking

पुलवामा आतंकी हमला : शहीदों के लिए शायरी, ऐसे दें श्रद्धांजलि

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के पुलवामा जिले (Pulwama District) में हुए आतंकवादी (Terrorist) हमले में सीआरपीएफ (CRPF) के कम से कम 44 जवानों की शहादत (Martyrs) गई।

पुलवामा आतंकी हमला : शहीदों के लिए शायरी, ऐसे दें श्रद्धांजलि

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के पुलवामा जिले (Pulwama District) में हुए आतंकवादी (Terrorist) हमले में सीआरपीएफ (CRPF) के कम से कम 44 जवानों की शहादत (Martyrs) गई। आतंकी हलमे में शहीद हुए सभी सीआरपीएफ के जवानों को शुक्रवार को दिल्ली के पालम में श्रद्धांजलि दी गई। इस मौके पर पीएम नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी और तीनों सेनाध्यक्ष समेत रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण भी मौजूद रहीं। जिसके बाद सभी शहीद जवानों के पार्थिव शरीर उनके घरों के लिए रवाना कर दिए गए। इस मौके पर देश के लोगों ने नम आंखों से शहीदों को भावभीनी श्रद्धांजलि दी। भावभीनी श्रद्धांजलि देने के लिए गूगल (Google) पर शहीदों की शायरी (Martyrs Shayari), शहीदों पर शायरी (Shaheedo Par Shayari), शहीदों को श्रद्धांजली दी जा रही है। शायरियों को लोग सोशल मीडिया के माध्यम से मैसेज (Message) भेजकर शहीदों को श्रद्धांजलि (Martyrs) दे रहे हैं।

Shaheedo Par Shayari / शहीदों पर शायरी

चढ़ गये जो हंसकर सूली, खाई जिन्होंने सीने पर गोली,

हम उनको प्रणाम करते हैं। जो मिट गये देश

पर, हम सब उनको सलाम करते हैं..

Shaheedo Par Shayari / शहीदों पर शायरी

वो ज़िन्दगी क्या जिसमे देश भक्ति ना हो,

और वो मौत क्या जो तिरंगे में ना लिपटी हो..

Shaheedo Par Shayari / शहीदों पर शायरी

नींद उड़ गयी यह सोच कर, हमने क्या किया देश के लिए,

आज फिर सरहद पर बहा हैं खून मेरी नींद के लिए..

Shaheedo Par Shayari / शहीदों पर शायरी

कभी ठंड में ठिठुर कर देख लेना,

कभी तपती धूप में जल के देख लेना,

कैसे होती हैं हिफ़ाजत मुल्क की,

कभी सरहद पर चल के देख लेना..

Shaheedo Par Shayari / शहीदों पर शायरी

हल की नोंकें जिस धरती की मोती से मांगें भरतीं

उच्च हिमालय के शिखरों पर जिसकी ऊंची ध्वजा फहरती

बैरागी

Shaheedo Par Shayari / शहीदों पर शायरी

आज़ादी अधिकार सभी का जहां बोलते सेनानी

विश्व शांति के गीत सुनाती जहां चुनरिया ये धानी..

बैरागी

Shaheedo Par Shayari / शहीदों पर शायरी

ऐसी भारत मां के बेटे मान गंवाना क्या जाने

मेरे देश के लाल हठीले शीश झुकाना क्या जाने..

बैरागी

Shaheedo Par Shayari / शहीदों पर शायरी

खून से खेलेंगे होली,

अगर वतन मुश्किल में है

सरफ़रोशी की तमन्ना

अब हमारे दिल में है..

Shaheedo Par Shayari / शहीदों पर शायरी

घरबार छोड़ सीमाओं पर बैठे हैं आंखे लगायें,

उसे मिटा दें जो भी दुश्मन सीमायें लांघ के आयें..

Shaheedo Par Shayari / शहीदों पर शायरी

यदि हाल मेरी बहना पूछे तो, सूनी कलाई दिखला देना,

इतने पर भी न समझे तो, राखी तोड़ दिखा देना..

Loading...
Share it
Top