logo
Breaking

एक थप्पड़ में हिल गया था आतंकी मसूद अजहर, जानें इसकी पूरी कहानी

जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के पुलवामा (Pulwama) में 40 सीआरपीएफ जवानों (CRPF Jawan) को निशाना बनाने वाले आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (Jaish e Mohammad) की जिम्मेदारी के बाद पाकिस्तान (Pakistan) पर एक बार फिर से सवालिया निशान खड़े हो गए हैं।

एक थप्पड़ में हिल गया था आतंकी मसूद अजहर, जानें इसकी पूरी कहानी

जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) के पुलवामा (Pulwama) में 40 सीआरपीएफ जवानों (CRPF Jawan) को निशाना बनाने वाले आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (Jaish e Mohammad) की जिम्मेदारी के बाद पाकिस्तान (Pakistan) पर एक बार फिर से सवालिया निशान खड़े हो गए हैं। आखिर जैश का सरगना मौलाना मसूद अजहर (Maulana Masood Azhar) को भारत को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित किया जाए। इसको लेकर संयुक्त राष्ट्र (United Nations) में 5 देश एक साथ आ गए हैं। ऐसे में पाकिस्तान पर आंतर्राष्ट्रीय दवाब बढ़ गया है।

ऐसे किया गया मसूद को रिहा

यहां हम आपको भारत में दहशत फैलाने वाले मौलाना मसूद अजहर के बारे में बताने जा रहे हैं। मौलाना मसूद अजहर वहीं आतंकवादी है जिसे 1999 में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में छोड़ दिया गया था। 1999 में कंधार विमान अपहरण के बाद यात्रियों की सलामती के लिए इस आतंकी के साथ दो और को छोड़ा गया था।

पाकिस्तान के बहावलपुर में रहता है अजहर

बता दें कि आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का मुख्या मसूद अजहर है जो 10 जुलाई 1968 को बहावलपुर पाकिस्तान में पैदा हुआ। अजहर 9 भाई बहनों में छोटा है। अजहर के पिता पाकिस्तान में एक स्कूल टीचर थे उनका नाम अल्लाह बख्श शब्बीर था। परिवार डेयरी और पॉल्ट्री का व्यापार करता था। उसने कराची से पढ़ाई की है। पढ़ाई के दौरान ही वो हरकत-उल-अंसार संगठन के संपर्क में आया। जो आतंकी गतिविधियों के लिए जाना जाता है।

कई देशों की यात्राएं भी की

इसी दौरान पत्रिका साद-ए-मुजाहिद्दीन और अरबी भाषा की सावत-ए-कश्मीर का संपादक बनाया गया। इसी दौरान वो संगठन को मजबूत करने के लिए देश विदेश की यात्राओं पर निकल गया। उसने जाम्बिया, अबु धाबी, सऊदी अरब, मंगोलिया, यूनाइटेड किंगडम और अल्बानिया का दौरा किया। इस दौरान उसने फंड, नई भर्तियों के लिए युवकों को प्रेरित किया।

आतंकी संगठन जैश की स्थापना की

पाकिस्तान में हरकत-उल-अंसार, हरकत-उल-मुजाहिदीन, जैश-ए-मोहम्मद संगठन मौजूद हैं। इसमें मसूद अजहर आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का स्थापक है। जिसने 2000 में इस संगठन की बनाया था। इसका मुख्य केंद्र पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर है। अजहर हरकत-उल-अंसार का सचिव रह चुका है।
इसी यात्रा के दौरान वो 1994 में पुर्तगाल पासपोर्ट पर बांग्लादेश के रास्ते भारत पहुंचा और फिर कश्मीर। इसी दौरान आतंकी गतिविधियों की वजह से उसे अनंतनाग से उसे फरवरी 1994 में गिरफ्तार किया गया। लेकिन 1999 में कंधार विमान अपहरण के दौरान 814 यात्रियों को बचाने के लिए उसे छोड़ दिया गया।

अजहर पर पाकिस्तान ने दिया था ये बयान

कंधार के बाद अजहर पाकिस्तान चला गया और वहां वो आज भी रह रहा है। पाकिस्तान की सरकार ने पहले इस बात के संकेत दिये थे कि अजहर को उसके घर आने की इजाजत दी जायेगी। क्योंकि वहां उस पर कोई मुकदमा नहीं चल रहा है। जिसकी वजह से आज भी वो बचा हुआ है। 2008 में मुंबई हमलों को लेकर भी भारत सरकार ने कई सबूत दिए।

एक थप्पड़ में हिल गया था अजहर

बता दें कि जब अजहर भारत में गिरफ्तार हुआ तो उसे पूछताछ भी हुई। आतंकी हमलों को अंजाम देने वाले मसूद अजहर पर पूछताछ के दौरान ज्यादा सख्ती बरतने की नौबत कभी नहीं आई। सिक्किम के पूर्व डीजी अविनाश मोहनाने ने खुद इस बात का खुलासा किया था। उन्होंने कहा कि सेना के अधिकारियों के एक थप्पड़ में ही अजहर ने सारी खुफिया जानकारियां हमें दे दी थीं। जैश ने भारत में कई हमलों को अंजाम दिया है। इसमें पठानकोट, उरी और अब पुलवामा आतंकी हमला शामिल है।
Loading...
Share it
Top