Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पुलवामा आतंकी हमला : 5 फरवरी को कराची में रची गई साजिश, पीओके में गाजी ने दी भी आईईडी ब्लास्ट की ट्रेनिंग, जैश ने भेजीं थी 7 टीमें

जम्मू कश्मीर में पुलवामा के गोरीपोरा इलाके में सीआरपीएफ की 54वीं बटालियन के जवानों के लहू से जमीन रक्तरंजित हो गई। आतंकियों का आईईडी धमाका इतना तेज था कि सेना की गाड़ी के परखच्चे उड़ गए। कई जवानों ने तो मौके पर दम तोड़ दिया।

पुलवामा आतंकी हमला : 5 फरवरी को कराची में रची गई साजिश, पीओके में गाजी ने दी भी आईईडी ब्लास्ट की ट्रेनिंग, जैश ने भेजीं थी 7 टीमें

जम्मू कश्मीर में पुलवामा के गोरीपोरा इलाके में सीआरपीएफ की 54वीं बटालियन के जवानों के लहू से जमीन रक्तरंजित हो गई। आतंकियों का आईईडी धमाका इतना तेज था कि सेना की गाड़ी के परखच्चे उड़ गए। कई जवानों ने तो मौके पर दम तोड़ दिया। जगह-जगह वाहन का मलबा और जवानों शव बिखर गए।

बता दें कि 18 सितंबर 2016 को उरी हमले के बाद सुरक्षा बलों पर यह दूसरा बड़ा आतंकी हमला है। तब 19 जवान शहीद हो गए थे। गुरुवार को सेना के काफिले के पास हुए आईईडी धमाके के बाद सेना ने सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया गया है। जैश आतंकियों ने आत्मघाती धमाके के जरिए गुरुवार को सुरक्षाबलों को निशाना बनाया है।

सीआरपीएफ के अनुसार, दर्जनभर गाड़ियों में 2500 से ज्यादा जवानों का काफिला पुलवामा की तरफ जा रहा था। आतंकियों ने धमाके से पहले फायरिंग भी की। गोलीबारी के निशान कई गाड़ियों पर देखे गए हैं। हमले में एक मेजर समेत 44 जवान शहीद हो गए हैं। वहीं कई घायल जवानों का इलाज किया जा रहा है।

पीओके में गाजी ने दी भी आईईडी ब्लास्ट की ट्रेनिंग

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में अवंतीपोरा के गोरीपोरा इलाके में सुरक्षाबलों के काफिले पर हमला करने वाले आतंकी को जैश के पाक अधिकृत कश्मीर के कैंप में चीफ इंस्ट्रक्टर रह चुका अब्दुल रशीद गाजी ने आदिल अहमद डार उर्फ वकास को आईईडी ब्लास्ट की ट्रेनिंग दी थी।

आदिल पुलवामा के गुंडीबाग इलाके का ही रहने वाला था। बता दें कि गाजी दिसंबर में कश्मीर में दाखिल हुआ था, जिसे लेकर सुरक्षा एजेंसियों ने भी अलर्ट जारी किया था। बताया जा रहा है कि गाजी के घाटी में दाखिल होने के बाद से पिछले दो महीनों में आतंकी घटनाएं बढ़ी हैं।

5 फरवरी को कराची में जैश की रैली में रची गई साजिश

आतंकियों ने इस हमले में जवानों के दो वाहनों को अपना निशाना बनाया। यह हमला पाकिस्तान के कराची में 5 फरवरी को जैश-ए-मोहम्मद की रैली के बाद हुआ, जिसमें भारत को दहलाने के लिए आतंकियों की 7 टीमें रवाना की गई थी।

आपको बता दें कि पाकिस्तान के कराची में 5 फरवरी को जैश-ए-मोहम्मद की रैली में मौलाना मसूद अजहर के छोटे भाई और जैश के सरगना मौलाना अब्दुल रऊफ असगर ने भारत के अन्य हिस्सों को दहलाने का ऐलान किया था।

हमले के जैश ने भेजीं थी 7 टीमें

इस रैली को संबोधित करते हुए रऊफ असगर ने कहा था कि अगले साल एक बार फिर कश्मीर सॉलिडरिटी डे मानाएंगे तो दिल्ली दहल चुकी होगी। सूत्रों के मुताबिक इस रैली से जैश के फिदायीनों की 7 टीमें भारत के विभिन्न शहरों के लिए रवाना की गई थी।

सुरक्षा एजेंसियों ने भी इस बावत अलर्ट जारी कर आगाह किया था। दरअसल दिसंबर 2018, में जैश-ए-मोहम्मद का टॉप ट्रेनर अब्दुल रशीद गाजी जम्मू-कश्मीर में घुसने में कामयाब हो चुका था।

Share it
Top