Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पुलवामा शहीदों के लिए कविता : पढ़कर हो जाएंगी आंखें नम, याद आजएगी शहीदों की कुर्बानी

Pulwama Shaheedo Ke Liye Kavita : गुरुवार को श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग पर पुलवामा के अवंतीपोरा क्षेत्र में सीआरपीएफ के काफिले पर आत्मघाती हमले में कम से कम 44 जवान शहीद हो गए।

पुलवामा शहीदों के लिए कविता : पढ़कर हो जाएंगी आंखें नम, याद आजएगी शहीदों की कुर्बानी

Pulwama Shaheedo Ke Liye Kavita : गुरुवार को श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग पर पुलवामा के अवंतीपोरा क्षेत्र में सीआरपीएफ के काफिले पर आत्मघाती हमले में कम से कम 44 जवान शहीद हो गए। आतंकी हमले में जवानों के शहीद होने से पूरा देश गुस्से के साथ साथ सदमें में है। देश के अलावा कई और देश पुलवामा हमले की निंदा कर रहे हैं। इस मौके पर हम शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए देशभक्ति कविता लेकर आएं है। जिसके जरिए आप देश के वीर जवानों को श्रद्धांजलि दे सकते हैं...

Pulwama Shaheedo Ke Liye Kavita: शहीदों के लिए कविता

युद्ध में जख्मी सैनिक साथी से कहता है:

‘साथी घर जाकर मत कहना, संकेतो में बतला देना,

यदि हाल मेरी माता पूछे तो, जलता दीप बुझा देना!

इतने पर भी न समझे तो दो आंसू तुम छलका देना!!

यदि हाल मेरी बहना पूछे तो, सूनी कलाई दिखला देना!

इतने पर भी न समझे तो, राखी तोड़ दिखा देना !!

यदि हाल मेरी पत्नी पूछे तो, मस्तक तुम झुका लेना!

इतने पर भी न समझे तो, मांग का सिन्दूर मिटा देना!!

यदि हाल मेरे पापा पूछे तो, हाथों को सहला देना!

इतने पर भी न समझे तो, लाठी तोड़ दिखा देना!!

यदि हाल मेरा बेटा पूछे तो, सर उसका सहला देना!

इतने पर भी न समझे तो, सीने से उसको लगा लेना!!

यदि हाल मेरा भाई पूछे तो, खाली राह दिखा देना!

इतने पर भी न समझे तो, सैनिक धर्म बता देना!!

Share it
Top