Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पाक के नए PM इमरान खान के अय्याशियों और विवादों का काला सच

पाकिस्तान को वर्ल्ड कप जिताने वाले पाक पीएम इमरान खान जितना क्रिकेट को लेकर चर्चा में रहे उससे कई ज्यादा अय्याशियों के लिए सुर्खियों में रहे हैं।

पाक के नए PM इमरान खान के अय्याशियों और विवादों का काला सच

पाकिस्तान को वर्ल्ड कप जिताने वाले पाक पीएम इमरान खान जितना क्रिकेट को लेकर चर्चा में रहे उससे कई ज्यादा अय्याशियों के लिए सुर्खियों में रहे हैं। वैसे पाकिस्तान के वजीर-ए-आजम बन चुके इमरान खान के कप्तानी से लेकर सियासी सफर तक की कहानी बेहद दिलचस्प है।

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में जन्में इमरान ने 18 साल की उम्र में ही क्रिकेट में अपना ओहदा कायम कर लिया था। 140 की स्पीड से गेंदबाजी करने वाले इमरान के आगे बल्लेबाज ध्वस्त हो जाते थे।

इसे भी पढ़ें- इमरान खान शपथ ग्रहणः इमरान खान को मिली पाक की कमान, शपथ लेते ही बन गए 22 वें प्रधानमंत्री

लेकिन अब राजनीति में उनकी रफ्तार किस तरह की रहेगी यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा लेकिन पाकिस्तान के लिए सबसे शर्मनाक बात ये है कि एक तरफ जहां इस्लामाबाद में इमरान का शपथ ग्रहण चल रहा था तो दुसरी ओर पाक सेना भारतीय सैनिकों पर गोलीबारी कर रही थी। इससे साफ पता चलता है कि पाकिस्तान इमरान सरकार भारत के साथ किस तरह के संबंध चाहती है।

ऐसे में नवजोत सिंह सिद्धू का पाक दौरा उनके राष्ट्रहित पर सवाल खड़ा कर रहा है। आर्मी चीफ के साथ सिद्धू का गला मिलना इनके भारत प्रेम को कठघरे में खड़ा कर रहा है।

खैर, ये तो रही हाल की बातें, अगर इमरान खान की निजी जिंदगी की बात करें तो वे 3.8 अरब की संपत्ति के मालिक हैं। लेकिन अकूत संपत्ति के लिए उन्होंने जिंदगी को काफी करीब से देखा है। यह सफर इतना आसान नहीं था। इसके बीच कई कड़ियां जुड़ी हुई हैं।

इमरान के अय्याशियों की कहानी यूं ही नहीं कही जाती हैं। इसके पीछे उनके वैवाहिक जीवन का कड़वा सच है। इमरान ने तीन-तीन शादियां की है।

16 मई 1995 को इमरान खान ने ब्रिटिश समाजिक कार्यकर्ता जमीमा गोल्डस्मिथ से शादी की। यह शादी लगभग 9 साल तक चली। 2004 को दोनों के बीच तलाक हो गया।

इसके बाद लंदन की पत्रकार रेहम खान से शादी हुई और ये रिश्ता भी टूट गया। रेहम खान ने इमरान के अय्याशियों को लेकर खुलासा किया। और 2018 में इमरान ने बुशरा मानेका से तीसरी शादी की। हालांकि इमरान के अय्याशी को लेकर इनके साथ क्रिकेटर ने भी आरोप लगाए थे।

इसे भी पढ़ें- भावी PM इमरान खान ने शेयर की ऐतिहासिक तस्वीर

1992 में पाकिस्तान को क्रिकेट वर्ल्ड कप भी जीताकर अपनी टीम को वर्ल्ड चैंपियन बनाया। लेकिन इसी बीच इमरान ने सन्यास की घोषणा कर दी जिससे कि दर्शकों को काफी निराशा हुई लेकिन किसको पता था कि सन्यास ले चुका कप्तान इस तरह वापसी करेगा।

लेकिन कप्तान ने एक नई राजनीतिक पारी शुरू की और चार साल की कड़ी मेहनत के बाद इमरान खान ने अप्रैल 1996 में पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ (पीटीआई) नामक राजनीतिक दल की घोषणा की। इसी के साथ वह पाकिस्तान में राष्ट्रीय नेता बनकर उभरे।

1997 में वह अपना पहला चुनाव हार गए। इस दौरान इमरान को मुंह की खानी पड़ी। लेकिन इमरान का हौंसला कहां टूटने वाला था। लेकिन 2002 में उन्होंने पहली बार नेशनल असेंबली का चुनाव लड़ा और 2007 तक मियांवाली से विपक्षी नेता बनकर रहे।

1982 से दस सालों तक इमरान खान पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के कप्तान बने रहे। लेकिन क्या पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के तौर पर ये इतने समय तक कायम रह पाएंगे? यह एक बड़ा सवाल है और इमरान के लिए चुनौती भी।

क्योंकि पाकिस्तान सियासत का इतिहास खूनी रहा है। कोई भी पीएम अपना कार्यकाल पूरा नहीं कर पाता है या तो मार दिया जाता है और नहीं तो जेल भेज दिया जाता है। क्या पाकिस्तान का ये काला इतिहास इमरान खान बदल पाएंगे?

Share it
Top