Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अटल बिहारी से लेकर प्रणब मुखर्जी और मनमोहन समेत इनको खाली करना होगा सरकारी आवास

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, प्रतिभा देवी सिंह पाटिल सहित पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, एचडी देवगौड़ा और मनमोहन सिंह को जल्द अपना सरकारी आवास खाली करना पड़ सकता है।

अटल बिहारी से लेकर प्रणब मुखर्जी और मनमोहन समेत इनको खाली करना होगा सरकारी आवास

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, प्रतिभा देवी सिंह पाटिल सहित पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, एचडी देवगौड़ा और मनमोहन सिंह को जल्द अपना सरकारी आवास खाली करना पड़ सकता है।

भारत के पूर्व सॉलिसिटर जनरल गोपाल सुब्रह्मण्यम ने सुप्रीम कोर्ट में इस बाबद एक रिपोर्ट जमा की है, जिस पर यदि सुप्रीम कोर्ट मोहर लगा देता है तो इन पूर्व शीर्ष नेताओं को अपना सरकारी आवास छोड़ना पड़ सकता है।

इसे भी पढ़ेंः मध्य प्रदेश: DG कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लेंगे पीएम मोदी, देश की सुरक्षा पर होगी चर्चा

यदि सुप्रीम कोर्ट ने गोपाल सुब्रमण्यम का सुझाव मान लिया तो पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल, प्रणब मुखर्जी, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, अटल बिहारी वाजपेयी और एचडी देवेगौड़ा को जल्द ही अपना सरकारी आवास खोना पड़ सकता है।

सुप्रीम कोर्ट ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए गोपाल सुब्रमण्यम को एमिकस क्यूरी बनाया था। जस्टिस रंजन गोगोई और जस्टिस नवीन सिन्हा पिछले वर्ष 23 अगस्त को लोक प्रहरी एनजीओ की ओर से दाखिल याचिका पर सुनवाई करते हुए गोपाल सुब्रमण्यम से कहा था कि वह इस मामले में अपना सुझाव दें।

यूपी के मुख्यमंत्रियों को भी करना पड़ा था खाली

आपको बता दें कि इस याचिका के बाद ही उत्तर प्रदेश में पूर्व मुख्यमंत्रियों को अपने सरकारी आवास खाली करने पड़े थे। सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने कहा था कि इस याचिका में जनहित के अहम सवाल हैं, इसके कई पहलुओं पर विचार करने की आवश्यकता है। मामले में फैसले का असर ना सिर्फ प्रदेश बल्कि केंद्र के नेताओं पर भी पड़ सकता है।

16 जनवरी को होगी सुनवाई

आपको बता दें कि शुक्रवार (5 जनवरी) को जस्टिस गोगोई और आर भानुमती की बेंच ने इस मामले की सुनवाई की, इस मामले में अगली सुनवाई 16 जनवरी को होगी, जिसमे इन पूर्व राष्ट्रपति, पीएम और सीएम के आवास पर फैसला दिया जा सकता है। इस दौरान यह बहस की जा सकती है कि पब्लिक प्रॉपर्टी को साधारण नागरिक को नहीं दिया जा सकता है, जैसा कि पहले लोगों को दिया जाता रहा है।

Next Story
Share it
Top