Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

INDEPENDENCE DAY: प्रणब मुखर्जी ने देश को दिया शुभकामना संदेश

भारत के राष्ट्रपति ने प्रणव मुखर्जी ने 69वां स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर देशवासियों को शुभकामना संदेश दिया।

INDEPENDENCE DAY: प्रणब मुखर्जी ने देश को दिया शुभकामना संदेश

नई दिल्ली. भारत के राष्ट्रपति ने प्रणब मुखर्जी ने 69वां स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर देशवासियों को शुभकामना संदेश दिया। प्रणव मुखर्जी ने अपने संदेश में सबसे पहले भारतीय सेना और सुरक्षा बलों को देश की सुरक्षा के लिए धन्यवाद कहा। फिर भारतीय खिलाड़ियो को बधाइयां दी। उसके बाद राष्ट्रपति ने 2014 के नोबेल शांति पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी को देश का नाम रोशन करने के लिए धन्यवाद किया और बधाई दी। राष्ट्रपति ने कहा कि संसद में होने वाली गतिविधियों पर चिंता जताई और केंद्र सरकार व विपक्षी दलों से देश हित में काम करने की अपील की। मानसून सत्र में संसद कार्रवाई उचित रूप से न चलने पर राष्ट्रपति ने दुख जताया।

Independence Day Special: तब मिलेगी सही मायनों में आजादी

उन्होंने अगले सत्र को सूचारू रूप से चलाने की बात कहीं। हमारा लोकतंत्र रचनात्मक है क्योंकि यह बहुलवादी है, परंतु इस विविधता का पोषण सहिष्णुता और धैर्य के साथ किया जाना चाहिए। स्वार्थी तत्त्व सदियों पुरानी इस पंथनिरपेक्षता को नष्ट करने के प्रयास में सामाजिक सौहार्द को चोट पहुंचाते हैं। लगातार बेहतर होती जा रही प्रौद्योगिकी के द्वारा त्वरित संप्रेषण के इस युग में हमें यह सुनिश्चित करने के लिए सतर्क रहना चाहिए कि कुछ इने-गिने लोगों की कुटिल चालें हमारी जनता की बुनियादी एकता पर कभी भी हावी न होने पाएं। सरकार और जनता, दोनों के लिए कानून का शासन परम पावन है परंतु समाज की रक्षा एक कानून से बड़ी शक्ति द्वारा भी होती है : और वह है मानवता।

Independence Day Special: तस्वीरों में देखिए आजादी के पहले के 12 घंटे

प्रणब मुखर्जी ने संदेश में आगे कहा कि शांति, मैत्री तथा सहयोग विभिन्न देशों और लोगों को आपस में जोड़ता है। भारतीय उपमहाद्वीप के साझा भविष्य को पहचानते हुए, हमें संयोजकता को मजबूत करना होगा, संस्थागत क्षमता बढ़ानी होगी तथा क्षेत्रीय सहयोग के विस्तार के लिए आपसी भरोसे को बढ़ाना होगा। जहां हम विश्व भर में अपने हितों को आगे बढ़ाने की दिशा में प्रगति कर रहे हैं, वहीं भारत अपने निकटस्थ पड़ोस में सद्भावना तथा समृद्धि बढ़ाने के लिए भी बढ़-चढ़कर कार्य कर रहा है। यह प्रसन्नता की बात है कि बांग्लादेश के साथ लम्बे समय से लंबित सीमा विवाद का अंतत: निपटारा कर दिया गया है।

Independence Day Special: आजादी की डगर पर नए दौर की महिलाएं

नीचे की स्लाइड्स में पढें, और क्या प्रणव मुखर्जी ने -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर -
Next Story
Top