Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

''प्रद्युम्न के पिता ने अपना बच्चा खोया लेकिन मेरा लौटा दिया''

सीबीआई ने प्रद्युम्न मर्डर केस में 16 वर्षीय छात्र को आरोपी बताया है।

प्रद्युम्न मर्डर केस में गुरुग्राम पुलिस ने बस कंडक्टर अशोक को आरोपी ठहराया था। अशोक की मां प्रद्युम्न के पिता के प्रति आभारी हैं। अशोक की मां कला देवी ने कहा कि मैं मृत बच्चे के पिता की आभारी हूं कि उन्होंने बच्चे को नयाय दिलाने के लिए अपनी लड़ाई जारी रखी।

इस लड़ाई की वजह से वो अपने बेटे अशोक को जेल से बाहर आता देख पाई हैं। कला देवी ने कहा कि वरुण ठाकुर ने अपना बेटा प्रद्युम्न खोया लेकिन मेरे बेटे को बचा लिया। मैं उनके परिवार के प्रति हमेशा आभारी रहूंगी।
कला देवी ने कहा कि मेरे बेटे ने परिवार का ख्याल रखने और भरण-पोषण करने के लिए पूरे जीवन संघर्ष किया है। अशोक का सिर्फ एक छोटा घर बनाने का और बच्चों को अच्छी शिक्षा देने का सपना था। गौरतलब है कि अशोक के दो बेटे हैं जिनमें से एक की उम्र 8 साल की है और एक की 5 साल। अशोक के छोटे बेटे ने बताया कि मेरे पापा हर रोज 5 बजे घर वापस आ जाते थे और मुझे गोद में उठाकर टॉफी की दुकान ले जाते थे।
बड़े बेटे का कहना है कि मेरे पिता बहुत ख्याल रखते हैं। उन्होनें कभी हमको एक थप्पड़ तक नहीं मारा। अशोक की पत्नी का कहना है कि जेल में अशोक रो-रोकर सिर्फ अपनी बेगुनाही की बात कहता था। अशोक की गिरफ्तारी के बाद परिवार को खाने के लाले पड़ गए।
Next Story
Hari bhoomi
Share it
Top