Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

प्रद्युम्न हत्याकांड: गुरुग्राम सेशन कोर्ट ने नाबालिग आरोपी की जमानत याचिका की खारिज

प्रद्युम्न मर्डर केस में सोमवार को गुरुग्राम सेशन कोर्ट ने नाबालिग आरोपी की जमानत याचिका खारिज कर दी है।

प्रद्युम्न हत्याकांड: गुरुग्राम सेशन कोर्ट ने नाबालिग आरोपी की जमानत याचिका की खारिज

प्रद्युम्न मर्डर केस में सोमवार को गुरुग्राम सेशन कोर्ट ने नाबालिग आरोपी की जमानत याचिका खारिज कर दी है। गौरतलब है कि शनिवार को चाइल्ड सेशन कोर्ट ने नाबालिग आरोपी की जमानत याचिका पर फैसला सुरक्षित रख लिया था।

शनिवार को कोर्ट में आरोपी छात्र की जमानत समेत कुल 3 याचिकाओं पर सुनवाई हुई थी। सुनवाई के दौरान आरोपी पक्ष के अलावा प्रद्युम्न के पिता वरुण ठाकुर के वकील व सीबीआई के वकील ने अपने-अपने पक्ष रखे। इसके बाद छात्र पक्ष की ओर से उसकी जमानत याचिका लगाई गई थी।

वहीं इससे पहले CBI ने रेयान इंटरनेशनल स्कूल में प्रद्युम्न हत्या के आरोपी और स्कूल के ही 11वीं कक्षा के छात्र की जमानत याचिका का शुक्रवार को गुरूग्राम की अदालत में विरोध किया था।

यह भी पढ़ें- दिल्ली: 6 दिनों में ठंड से 44 लोगों की हुई मौत, विपक्ष के निशाने पर आए केजरीवाल

सीबीआई ने कहा कि उस पर एक वयस्क के तौर पर मुकदमा चलाने के लिए जुवेनाइल बोर्ड का हालिया आदेश उसकी मानसिक परिपक्वता और उसके जघन्य अपराध को बयां करता है।

सीबीआई ने जमानत ने भी नाबालिग याचिका खारिज करने की मांग की और कहा कि बोर्ड ने आरोपी छात्र को वैधानिक जमानत से इंकार करते हुए एक बहुत ही तर्कसंगत आदेश जारी किया है।

दरअसल, जुवेनाइल बोर्ड ने 20 दिसंबर को कहा था कि प्रद्युम्न की हत्यारोपी 16 वर्षीय छात्र पर एक वयस्क की तरह मुकदमा चलाया जाए। बता दें कि 16 वर्षीय यह छात्र सात वर्षीय प्रद्युम्न ठाकुर की हत्या का आरोपी है।

किशोर न्याय (बच्चों की देखरेख और सुरक्षा) कानून, 2015 के तहत बलात्कार, हत्या, डकैती और हत्या, जैसे गंभीर अपराध जिनमें न्यूनतम सजा सात वर्ष हो के आरोपी किशोरों के लिए आयु सीमा को 18 वर्ष से घटाकर 16 वर्ष कर दिया था।

Share it
Top