Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पाक की कायराना हरकत के शिकार शहीद का आज था जन्मदिन

प्रभु सिंह अपने घर में अकेले कमाने वाले थे और 4 साल पहले सेना में भर्ती हुए थे।

पाक की कायराना हरकत के शिकार शहीद का आज था जन्मदिन
श्रीनगर. पाकिस्तान ने एक बार फिर से साबित कर दिया है की वो कितना कायर है। जब सेना के जवानो का मुकाबला मैदान में खुलकर नही कर पाए तो उन्होंने घात लगाकर हमला किया। मंगलवार सुबह जम्मू और कश्मीर में नियंत्रण रेखा के करीब माछिल में पाकिस्तानी सैनिकों के हमले में तीन भारतीय जवान शहीद हो गए थे। इस वारदात में शहीद होने वाले तीन जवानों में दो, गनर मनोज कुशवाह और राइफलमैन शशांक कुमार सिंह, यूपी के गाजीपुर के रहने वाले थे। वहीं तीसरा जवान प्रभु सिंह राजस्थान के जोधपुर का था। तीनों जवान 57 राष्ट्रीय राइफल में तैनात थे। पाकिस्तानी सैनिकों ने हत्या के बाद प्रभु सिंह का शव क्षत-विक्षत कर दिया और उसके सिर को काट कर ले गए।
प्रभु सिंह अपने घर में अकेले कमाने वाले थे और 4 साल पहले सेना में भर्ती हुए थे। प्रभु सिंह की शादी 2 साल पहले ही हुई थी। शहीद प्रभु सिंह की 10 महीने की छोटी बच्ची है। वो परिवार में अकेले कमाने वाले थे। आज बुधवार को प्रभु का जन्म दिन भी था।
इस हमले के बाद भारतीय सेना ने यह भी कहा है कि पाकिस्तानी सेना की ‘इस बर्बर और कायराना’ हरकत का बदला लिया जाएगा। हालांकि पाकिस्तान ने इन आरोपों से इनकार किया है। सेना के अधिकारियों ने कहा कि सेना के उप प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल बिपिन रावत ने रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को पूरी घटना से अवगत कराया है।
अधिकारियों ने कहा, 'भारतीय जवान के शव को क्षत-विक्षत करने की कायराना हरकत बॉर्डर एक्शन टीम (बीएटी) का किया धरा है, जिसे पाकिस्तानी सेना ने आतंकवादियों व अपने सैनिकों के सहयोग से अंजाम दिया है।'
वहीं इस हमले के बाद पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता एम. नफीस जकारिया ने पाकिस्तानी सेना द्वारा भारतीय सैनिक का सिर काटने की घटना से इनकार किया है। जकारिया ने ट्वीट किया, 'पाकिस्तान भारतीय मीडिया में आई उन झूठी और आधारहीन खबरों का खंडन करता है जिसमें नियंत्रण रेखा पर एक भारतीय सैनिक का सिर काटने के आरोप लगाए गए हैं।' उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा, 'यह खबरें गढ़ी हुई हैं और पाकिस्तान को बदनाम करने की कोशिश है। फिलहाल इस घटना के बाद शहीद प्रभु सिंह शेरगढ़ के खिरजा खास गांव के रहने वाले थे, उनकी शहादत पर पूरे गांव में शोक और मातम का माहौल बन गया है। वहीं उनके पिता जो आर्मी से रिटायर्ड हुए थे उन्होंने कहा की अपने बेटे के मौत का बदला लेने के लिए एक बार फिर से सेना में भर्ती होना चाहूंगा।'
उल्लेखनीय है कि उरी में आतंकी हमले की घटना के बाद भारतीय सेना ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में सर्जिकल स्ट्राइक करके आतंकियों के कई ठिकानों को ध्वस्त कर दिया था और कई आतंकियों को मार गिराया था। उरी हमले के बाद से भारत और पाकिस्तान के बीच संबंध तनावपूर्ण चल रहे हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top