Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

रयान स्कूल केस: पोस्टमार्टम रिपोर्ट से खुलासा, प्रद्युम्न का नहीं हुआ था यौन शोषण

प्रद्युमन बाथरूम से बाहर निकलते ही दवार से टकराकर गिर गया।

रयान स्कूल केस: पोस्टमार्टम रिपोर्ट से खुलासा, प्रद्युम्न का नहीं हुआ था यौन शोषण

रयान स्कूल में हुई 7 साल के मासूम बच्चे प्रद्युमन ठाकुर की मौत ने पूरे देश में शोक की लहर बिखेर दी है। सभी के मन में एक सवाल है कि आखिर इस बच्चे की मौत का असल जिम्मेदार कौन है। प्रद्युमन की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है जिसके बाद कई बड़े खुलासे हुए।

पोस्टमार्टम करने वाले बोर्ड के सदस्य डॉ दीपक माथुर ने कहा कि ने कहा था कि प्रद्यूमन के ऊपर बाथरूम के अंदर लगातार दो बार वार किया गया जिसकी वजह से गले की नली कट गई। दीपक ने बताया कि पहली बार जब गले के ऊपर वार किया जाता है तो चीख निकलती है और दूसरी बार में गले की नली कट जाती है।
गले की नली कटने की वजह से प्रद्युमन बाथरूम से बाहर तो आया लेकिन उसक आवाज नहीं निकली। प्रद्युमन बाथरूम से बाहर निकलते ही दवार से टकराकर गिर गया। उसने दीवार से उठने की तो कोशिश की लेकिन नहीं उठ सका। कयास लगाए जा रहे हैं कि ये पूरा हत्याकांड सोची समझी साजिश का हिस्सा है। बाथरूम के अंदर खून के निशानों से लगता है कि हैवान ने उसे बाहर न निकलने देने की पूरी कोशिश की थी लेकिन वो कामयाब नहीं हुआ।
दीपक ने बताया कि अगर प्रद्युमन के ऊपर दूसरी बार वार नहीं किया जाता तो वो अपनी कक्षा तक पहुंच जाता।

पोस्टमार्टम के बाद उठे कई सवाल

बाथरूम से चार कदम पर कक्षा एक है जिसके ठीक सामने कंप्यूटर लैब है। बाथरूम साइड में नहीं था बल्कि मुख्य गैलरी के किनारे है। दो कदम पर पानी पीने की सुविधा है, जहां बाथरूम स्थित है वहां पूरे टाइम बच्चों और कर्मचारियों का आना जाना लगा रहता है।
ऐसे में बच्चे के साथ कोई गलत काम करने के बारे में सोच नहीं सकता और न ही बाथरूम का गेट बंद कर सकता है। इससे तो लगता है कि ये हत्याकांड एक सोची समझी साजिश थी।
स्कूल की जिस कक्षा में प्रद्युमन पढ़ता था उस रूम से बाथरूम 25 कदम दूर है। ऐसे में बच्चे को बाथरूम जाने की चागे जितनी जल्दी हो वो कक्षा में अपनी बैग बिना रखे बाथरूम कैसे गया। ऐसा लगता है उसे इशारे से बाथरूम में बुलाया गया।
वरूणचंद ठाकुर अपने बेटे को सुबह 7.50 पर छोड़कर गए थे। 8 बजकर दस मिनट पर उन्हें बच्चे की हत्या की खबर मिली इसका मतलब सिर्फ चंद मिनटों में हत्या कर दी गई। आरोपी के पास इतना वक्त नहीं था कि वो बच्चे के साछ कुकर्म करके उसका गला रेते। माना जा रहा है कि ये सोची समझी रणनीति थी।
Next Story
Top