Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

एच-1बी वीजा पर आने वालों का कौशल निम्नस्तरीय

यह बात भारत की प्रमुख सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी इन्फोसिस के अंदर की जानकारियां देने वाले एक कर्मचारी (व्हिसलब्लोअर) ने कही है।

एच-1बी वीजा पर आने वालों का कौशल निम्नस्तरीय

वाशिंगटन.अमेरिकियों की जगह नियुक्त किए जाने वाली एच-1बी वीजा प्राप्त कर्मचारियों का कौशल निम्नस्तरीय और व्यावसायिक ज्ञान न के बराबर होता है। यह बात भारत की प्रमुख सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी इन्फोसिस के अंदर की जानकारियां देने वाले एक कर्मचारी (व्हिसलब्लोअर) ने कही है। उसने अमेरिकी सांसदों से आग्रह किया है कि इस खंड के वीजा की संख्या न बढ़ाएं और आव्रजन प्रणाली की खामियां दूर करें।

अप्रैल में विनिवेश कर सकती है भेल, सरकार के खाते में आएंगे 3200 करोड

जे बी पामर ने इन्फोसिस के खिलाफ वीजा धोखाधड़ी का एक मामला उजागर किया किया था जिसको निपटाने के लिए कंपनी को 3.4 करोड़ डालर का भुगतान करना पड़ा था। अमेरिका इतिहास में यह इस तरह का सबसे बड़ा मामला था। पामर ने आरोप लगाया है कि जिसे भी चुना जाता है, चाहे उसके पास जो भी कौशल हो, एच-1बी कर्मचारी जब अमेरिका आते हैं तो उन्हें यहां पहुंचने पर आवश्यक कौशल सीखने होते हैं।

स्पेक्ट्रम नीलामी: 74 चरणों की समाप्ति पर एक लाख सत्तर हजार करोड़ के पार पहुंची बोली

पामर ने सीनेट की न्यायिक मामलों की समिति के सामने कहा, मैं यही कह सकता हूं कि अमेरिकी कर्मचारियों की जगह लेने वाले एच-1बी वीजा पर आने वाले कर्मचारियों का कौशल का स्तर निम्न कोटि का है और कारोबारी ज्ञान बहुत थोड़ा या न के बराबर है। ज्ञान हस्तांतरण का विचार बेकार है अमेरिकी इन लोगों को काम करने के संबंध में प्रशिक्षित कर रहे हैं।

Hyundai ने भारत में लॉन्‍च की आई-20 ऐक्टिव, शुरुआती कीमत 6.38 लाख से 7.09 लाख तक

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी खबर-

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Share it
Top