Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हिंदू लड़की मुस्लिम बच्चों को मंदिर में पढ़ाती है ''कुरान''

12वीं में पढ़ने वाली पूजा कुशवाहा रोज शाम को शिक्षिका की भूमिका निभाती है।

हिंदू लड़की मुस्लिम बच्चों को मंदिर में पढ़ाती है कुरान
X
आगरा. हिन्दू-मुस्लिम एकता की मिसाल है उत्तर प्रदेश (आगरा) की रहने वाली पूजा। 18 साल की पूजा हर शाम आगरा के संजय नगर स्थित एक मंदिर प्रांगण में खुले आसमान के नीचे मुस्लिम बच्चों को कुरान की तालीम देती है। 12वीं में पढ़ने वाली पूजा कुशवाहा रोज शाम को शिक्षिका की भूमिका निभाती है और इलाके के 35 मुस्लिम बच्चों को कुरान पढ़ाती है। अरबी जुबान के कठिन शब्दों के स्पष्ट और सही-सही उच्चारण के साथ पूजा में ऐसे शिक्षक को देखा जा सकता है जिसकी चाहत हरेक बच्चे के माता-पिता को होती है।
संगीता बेगम भी बच्चों को कुरान पढ़ाती थीं
पूजा की एक स्टूडेंट पांच साल की बच्ची अलीशा की मां रेशमा बेगम ने कहा, 'इतनी कम उम्र में इतनी बड़ी उपलब्धि हासिल करते देख आश्चर्य होता है। वह मेरी बच्ची को पढ़ाती है, मैं बहुत खुश हूं। हमारी और हम जितने भी पैरंट्स को जानते हैं, उन सबकी नजर में उसका (पूजा का) धर्म सबसे आखिर में आता है।'
टाइम्स ऑफ इंडिया
के मुताबिक, पूजा ने बताया, 'बहुत साल पहले साझी संस्कृति में विश्वास रखनेवाली एक और महिला हमारे इलाके में रहती थी। मुस्लिम पिता और हिंदू मां की बेटी संगीता बेगम बच्चों को कुरान पढ़ाती थीं। मैं भी इस धार्मिक ग्रंथ में दिलचस्पी लेने लगी और उनकी कक्षा में जाने लगी। मैं धीरे-धीरे आगे बढ़ती गई और क्लास में सभी को पीछे छोड़ दिया।' कुछ व्यक्तिगत कारणों से संगीता बेगम को क्लास छोड़नी पड़ी और उन्होंने पूजा से आग्रह किया कि वह इसे जारी रखे।
शिक्षा देना बड़ा काम
पूजा ने कहा, 'उन्होंने (संगीता बेगम ने) मुझे इस्लाम का एक महत्वपूर्ण सिद्धांत सिखाया कि शिक्षा प्राप्त करने का कोई महत्व है, अगर आप इसे बांटते नहीं हैं।' वह मुफ्त में क्लास लेती है। उसने कहा, 'ज्यादातर बच्चे गरीब परिवारों से हैं। मुझे देने के लिए उनके पास पैसे होते नहीं हैं और मैं लेना भी नहीं चाहती।' उसके पास पढ़ने वाले बच्चों की तादाद लगातार बढ़ते रहने से उसका घर छोटा पड़ गया। तब इलाके के बुजुर्गों ने तुरंत मंदिर प्रांगण में क्लास लेने को कहा। पूजा की बड़ी बहन नंदिनी ग्रैजुएट है और इलाके के बच्चों को हिंदी पढ़ाने के साथ-साथ उन्हें गीता का ज्ञान भी देती है। पूजा और नंदिनी की मां रानी कुशवाहा ने कहा, 'ये बच्चे सुविधाहीन पृष्ठभूमि से आते हैं और इन्हें शिक्षा देना बड़ा काम है। मुझे अपनी बेटियों पर गर्व है।'
सांप्रदायिक सद्भाव का दुर्लभ उदाहरण
शहर के प्रमुख मुस्लिम नेता 70 वर्षीय हाजी जमीलुद्दीन कुरैशी कई सामाजिक संगठन चलाते हैं और उनका अपना एक स्कूल भी है। वह कहते हैं, 'यह जानकर खुशी होती है कि हमारे शहर में सांप्रदायिक सद्भाव का ऐसा दुर्लभ उदाहरण मौजूद है। शिक्षक सिर्फ और सिर्फ शिक्षक होता है और अगर वह पाक ग्रंथ को अच्छी तरह जानती है तो उसका धर्म क्या है, इससे कोई मतलब नहीं है। आखिरकार, इस्लाम भी किसी को अरबी सीखने या कुरान पढ़ने से मना नहीं करता।'
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और
पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story