Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

टीचर्स डे: बच्‍चों के जीवन में खेलकूल और मस्‍ती जरुरी: पीएम मोदी

ऑडिटोरियम में बड़ी संख्या में शिक्षक भी होंगे। दिल्ली में नगर निगम के स्कूलों ने भी भाषण के प्रसारण के पर्याप्त इंतजाम किए हैं।

टीचर्स डे: बच्‍चों के जीवन में खेलकूल और मस्‍ती जरुरी: पीएम मोदी
नई दिल्‍ली. मानेकशॉ ऑडिटोरियम में पीएम नरेंद्र मोदी देश के बच्‍चों को संबोधित करते हुए कहा कि आखिर क्‍या बता है कि बहुत सामर्थ्यवान छात्र, शिक्षक बनना क्यूं नहीं पसंद करते? इस सवाल का जवाब खोजे जाने की जरूरत है। उन्‍होंने कहा कि शिक्षक दिवस पर शिक्षकों को अवॉर्ड देना ही शिक्षक दिवस नहीं है। हमें जानना होगा कि समाज और जीवन में शिक्षक का महत्‍व क्‍या है। उन्‍होंने कहा कि हम किसी भी पेशे के क्‍यों न हों क्‍या हम कभी एक दिन भी किसी स्‍कूल में पढ़ाने गए। मोदी ने कहा कि अगर आगे बढने वालों के इरादों में दम है तो उसे परिस्थितियां आगे बढने से नहीं रोक सकतीं।
शिक्षा पद्धति पर बोलते हुए उन्‍होंने कहा कि हमें वैज्ञानिक शिक्षा को बढावा देना चाहिए। बच्‍चों के सर्वांगिण विकास पर बोलते हुए मोदी ने कहा कि बच्‍चों के जीवन में मस्‍ती और खेल जरुरी है। बगैर खेल के बच्‍चों की जीवन में आनंद नहीं आ सकता। बच्‍चों को खेलने में पसीना बहाना चाहिए। माेदी ने कहा कि सिर्फ पढने और कम्‍प्‍यूटर पर बैठने से कुछ नहीं होगा। उन्‍होंने कहा कि आज हर काम गूगल गुरूवार करता है लेकिन इससे जानकारी तो मिल जाती है लेकिन ज्ञान नहीं मिलता।
एक सवाल के जबाव में मोदी ने कहा कि जगह बदलने से जीवन में फर्क नहीं पड़ता। बस राज्य का मुख्यमंत्री होने के समय ज्यादा टेंशन नहीं थी। मोदी ने कहा कि कुछ बनने के लिए नहीं बल्कि कुछ करने के लिए सपने देखना चाहिए। एक अन्‍य जबाव में उन्‍होंने कहा कि मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं प्रधानमंत्री बनूंगा।
उन्‍होंने कहा कि मैं टीवी वालों का आभारी हूं। टीवी वालों ने बच्‍चों से पूछा कि वे पीएम से क्‍या पूछला चाहते हैं, और यह अच्‍छी बात है। इस अवसर पर प्रधानमंत्री ने अपने बचपन की शरारतों के बारे में भी बताया। महिला शिक्षा के सवाल पर मोदी ने कहा कि महिलाओं की शिक्षा महत्वपूर्ण है। यदि एक बच्ची पढ़ती है तो दो परिवार के लोग शिक्षा के दिशा में कदम उठाते हैं।
नीचे की स्लाइड्स में जानिए, बच्‍चों ने पूछे पीएम मोदी से सवाल-

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-

Next Story
Share it
Top